कभी लगाती थीं पोछा, अब हैं यूपी की दबंग महिला विधायक

Varanasi, Uttar Pradesh, India
कभी लगाती थीं पोछा, अब हैं यूपी की दबंग महिला विधायक

पूजा पाल व इस सपा महिला नेता के बी़च वर्चस्व की होगी जंग 

ज्योति गुप्ता
वाराणसी. बसपा विधायक पूजा पाल की जिंदगी कठिनाइयों से भरी हुई है। शादी के महज नौ दिन बाद ही पूजा पाल विधवा हो गईं थींं। पूजा पाल के पति राजू पाल ने इलाहाबाद पश्चिम विधानसभा सीट से अतीक अहमद के भाई अशरफ को हराकर उपचुनाव में जीत हासिल किया था, लेकिन विधायक चुने जाने के चार महीने बाद 25 जनवरी 2005 को राजू पाल की दिन दहाड़े हत्या हो जाने से पूजा पाल टूट गई थीं। फिल्मी अंदाज में हुए इस हत्या कांड में अतीक अहमद उनके भाई अशरफ समेत 11 लोग आरोपी बने थे।

राजू पाल की हत्या के एक साल बाद उपचुनाव हुआ, मगर राजू की पत्नी पूजा पाल चुनाव हार गईं। इस बीच पूजा पाल को विभिन्न परेशानियों का सामना करना पड़ा पर पूजा पाल ने हिम्मत नहीं हारी। उनके परिवार वालों की मानें तो प्रशासन ने जानबूझकर उन्हें चुनाव हरवा दिया और अशरफ विधायक हो गए, लेकिन 2007 के आम चुनाव में पूजा पाल बहुजन समाज पार्टी की लहर में विधायक बनीं और फिर 2012 में फिर बसपा के टिकट पर चुनाव लड़कर विधानसभा पहुंचीं।

यहीं से पूजा पाल ने अतीक अहमद को अपनी हिम्मत से पानी पिलाना शुरू कर दिया था। पूजा पाल व उनके परिवार ने हत्या के लिए सीधे-सीधे अतीक अहमद और तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह पर इल्ज़ाम लगाया था। गौरतलब है कि अतीक अहमद की पहचान एक बाहुबली नेता के तौर पर होती है और उनके ख़िलाफ़ कई मुक़दमे दर्ज हैं। 
बसपा विधायक पूजा पाल ने अतीक अहमद के खिलाफ सीबीआई जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की थी पूजा का कहना था कि सपा सरकार आने के बाद लागातार गवाहों पर दबाव बनाया जा रहा था, जिसके बाद कोर्ट ने अर्जी स्वीकार करते हुए राजू पाल हत्याकांड के अरोपियों की छानबीन के लिए सीबीआई टीम की मंजूरी दे दी।

पहले लगाती थीं पोछा
राजू पाल से पूजा की मुलाकात एक हॉस्‍पिटल में ही हुई थी, जहां पूजा पोछा लगाने का काम करती थीं, मुलाकात के बाद दोनों की निकटता काफी बढ़ गई। इसके बाद एमएलए राजू पाल ने 17 जनवरी 2005 को पूजा से शादी कर ली। आपको बता दें कि पूजा पाल ने ही अपनी सास को मुखाग्‍नि दिया था और इनका राजनीतिक सफर अभी जारी है। फिलहाल पूजा आगामी यूपी चुनाव की तैयारियों में जुटी हैं। बसपा ने इनपर फिर भरोसा जताया है। इन्हें इलाहाबाद शहर पश्चिमी से उम्मीदवार बनाया गया है।

सपा ने उतारा टक्कर की प्रत्याशी रिचा सिंह 

माना जा रहा है कि इलाहाबाद से शहर पश्चिमी सीट से सपा ने रिचा सिंह को इसलिए प्रत्याशी बनाया है ताकि रिचा पूजा पाल के 10 साल के रिकॉर्ड को तोड़ सकें। इस सीट पर सबसे पहले बाहुबली अतीक का कब्जा था और इसके बाद बसपा विधायक की पूजा पाल  का। राजनीतिज्ञों की माने तो बीजेपी भी इस सीट पर किसी महिला प्रत्याशी को ही मैदान  में उतारेगी। अब देखना है कि इविवि पूर्व अध्यक्ष व अखिलेश गुट की उम्मीदवार रि़चा व बसपा एमएलए पूजा पाल के बीच वर्चस्व की जंग के समीकरण कैसे बनते हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned