जब डीन को खोजने के लिए छात्रों को जलानी पड़ी मोमबत्ती

Patrika Varanasi
जब डीन को खोजने के लिए छात्रों को जलानी पड़ी मोमबत्ती

महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ का हाल, जानिए क्या है कहानी

वाराणसी. महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में बुधवार को विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संकाय में उस समय अजीब स्थिति उत्पन्न हो गयी तब संकायाध्यक्ष (डीन) को खोजने के लिए छात्रों को मोमबत्ती जलानी पड़ी। छात्रों ने मोमबत्ती जला कर डीन को खोजना शुरू किया तो थोड़ी देर में डीन प्रो.सत्या सिंह उन्हें मिल गयी।
मोमबत्ती जला कर खोजने की बात को लेकर छात्रों व डीन में बहस भी हुई। छात्रसंघ महामंत्री समीर कुमार मिश्रा के नेतृत्व में चलाये गये इस अभियान की परिसर में खुब चर्चा रही। छात्रसंघ महामंत्री समीर कुमार मिश्रा का आरोप है कि संकायाध्यक्ष कभी भी समय से संकाय में नहीं आती है। दोपहर के बाद वह आती है जिसके चलते छात्रों को रुटीन कार्य प्रभावित होता है। काशी विद्यापीठ में दूर-दराज से छात्र अध्ययन करने आते हैं। छात्रों को डीन के हस्ताक्षर की भी जरूरत होती है तो उन्हें शाम तक संकाय में डीन का इंतजार करना होता है। शाम को जब डीन आती है तो छात्र अपने फार्म को लेकर वहां जाता है यदि छात्र कि किस्मत अच्छी होती है तो फार्म पर हस्ताक्षर हो जाते हैं यदि छात्र कि किस्मत खराब हुई तो उसे दूसरे दिन आने का कहा जाता है दूसरे दिन का मतलब होता है कि फिर से छात्र को संकाय में शाम तक इंतजार करना होता है। छात्रसंघ महामंत्री ने आरोप लगाया कि यदि कोई छात्र इस बात की शिकायत परिसर के वरिष्ठ अधिकारियों से करता है तो डीन की तरफ से उसे धमकी भी मिलती है। ऐसे में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संकाय में अध्ययन करने वाले छात्रों को प्रतिदिन इसी पीड़ा से गुजरना पड़ता है। छात्रों ने इस बात की शिकायत की थी इसलिए छात्रों को डीन को खोजने के लिए मोमबत्ती जलानी पड़ी है। इस अवसर पर छात्रसंघ उपाध्यक्ष प्रेम प्रकाश गुप्ता, पुस्तकालय मंत्री अंगद यादव, दीपक उपाध्याय, हिमांशु गिरी, श्याम गुप्ता, आनंद, अर्पित, शुभम, जितेन्द्र आदि छात्र उपस्थित रहे।


Kashi Vidyapith


नहीं सुधरी व्यवस्था तो संकाय में लगायेंगे ताला
छात्रसंघ महामंत्री ने डीन प्रो.सत्या सिंह को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि संकाय की व्यवस्था नहीं बदलती है तो हम लोग आंदोलन तेज करने के लिए बाध्य होंगे। संकाय में ताला लगाने के साथ डीन का इस्तीफा लेने के लिए भी आंदोलन चलाया जायेगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned