Breaking-आजम खा को लगने लगा डर, कही मुस्लिम न कर दे बसपा को समर्थन

Devesh Singh

Publish: Feb, 17 2017 06:55:00 (IST)

Varanasi, Uttar Pradesh, India
Breaking-आजम खा को लगने लगा डर, कही मुस्लिम न कर दे बसपा को समर्थन

खुले मंच से कही बात, जानिए क्या कहा

वाराणसी. यूपी विधानसभा चुनाव 2017 में सपा और बसपा को लेकर जंग अब तेज हो गयी है। सपा और बसपा में मुस्लिम वोटरों को लेकर जबरदस्त लड़ाई चल रही है। यूपी में दो चरण का चुनाव हो चुका है और सपा-कांग्रेस गठबंधन व बसपा दोनों ने ही मुस्लिमों को अपने पक्ष में आने की बात कही है। इसी बीच शुक्रवार को इलाहाबाद में हुई जनसभा में आजम खा ने खुले मंच से ऐसी बात कह दी है, जिससे लगने लगा है कि मुस्लिम मत बसपा में न चला जाये।
आजम खा ने मंच में कहा कि आप जिस पर भरोसा कर रहे है उस बसपा के संस्थापक कांशीराम ने मस्जिदों को लेकर अच्छा बयान नहीं दिया था। आजम खा में खुले मंच से बसपा पर जमकर हमला भी बोला। आजम खा के इस वाक्य ने  आप जिस पर भरोसा कर रहे हो ने सबको चौंका दिया है। आखिरकार किन कारण से आजम खा ने भरोसा करने वाला बयान दिया है इसको लेकर अटकलों को बाजार गर्म हो गया है।




बसपा व सपा को जीत के लिए चाहिए मुस्लिम वोटर
सपा और बसपा दोनों को ही यूपी चुनाव 2017 में जीत के लिए मुस्लिम वोटरों की जरूरत है। वर्ष 2007 में मुस्लिम वोटरों ने बसपा का साथ दिया था तो बसपा पूर्ण बहुमत में आयी थी और मायावती एक बार यूपी की सीएम बनी थी। वर्ष 2012 में मुस्लिमों ने सपा का साथ दिया था, जिसके बाद सपा को बहुमत मिला है और मुलायम सिंह यादव ने सीएम अखिलेश यादव को सीएम बनाया है। वर्ष 2017 में फिर से सपा और बसपा के बीच मुस्लिम वोटों को लेकर जंग छिड़ी है। सपा ने मुस्लिम वोटों में फिर से सेंधमारी करने के लिए कांग्रेस से गठबंधन किया है।




दो चरण का हो चुका है चुनाव
यूपी में सात चरणों में चुनाव हो रहे है। दो चरण का चुनाव हो चुका है। जबकि तीसरे चरण का चुनाव 19 फरवरी को है। वर्ष 2012 की बात की जाये तो जिन सीटों पर चुनाव हो चुका है उसमे से एक चरण की सीटों पर सपा की लहर के बाद भी बसपा ने 24 सीटे जीती थी जबकि दूसरे चरण में सपा को जबरदस्त फायदा हुआ था। इस बार मुस्लिम मतदाताओं ने किसको समर्थन किया है यह तो चुनाव परिणााम ही बतायेगा। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned