सीएम योगी के मंत्री भी आये एक्शन में, पकड़ी गड़बड़ी तो अधिकारी हुए पसीने-पसीने

Patrika Varanasi
सीएम योगी के मंत्री भी आये एक्शन में, पकड़ी गड़बड़ी तो अधिकारी हुए पसीने-पसीने

किसानों को उठाना पड़ सकता था नुकसान, जानिए क्या है कहानी

वाराणसी. सीएम आदित्यनाथ योगी की तरह उनके मंत्री भी एक्शन में आ चुके हैं। शुक्रवार को कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने ग्रामीण क्षेत्रों के कृषि विभाग का निरीक्षण कर व्यवस्था का जायजा लिया। कृषि मंत्री ने एक सेंटर पर जब गेंहू की बोरी का तौल करवाया तो पता चला कि कागज पर जितना दर्ज है उससे कम गेहूं बोरे में पाया गया है। इस पर मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने संबंधित अधिकारियों को जबरदस्त फटकार लगायी। अधिकारी ने कहा कि यह सेंटर नया खुला है इसलिए कुछ तकनीकी समस्या हो सकती है।
कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने कृषि विभाग व गेहूं क्रय सेंटरों का हाल जानने के लिए ही कई सेंटरों का निरीक्षण किया। कृषि मंत्री आराजीलाइन विकास खंड के कई गेहूं क्रय केन्द्रों का निरीक्षण किया। वहां पर स्थिति सही मिलने पर मंत्री ने संतोष जताया है। कृषि मंत्री ने आराजीलाइन विकास खंड के ग्रामसभा देरखूं गेहूं क्रय केन्द्र का भी निरीक्षण किया। क्रय सेंटर पर मंत्री को देखते ही अधिकारी व कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। कृषि मंत्री ने केन्द्र प्रभारी आरके श्रीवास्तव से वहां पर पड़े गेहूं के बोरियों को तौलाने को कहा। गेहूं की बोरियां जब तौली गयी तो 52 किलो आयी। कागज पर उसी बोरी का तौल 50 किलो लिखा गया था। कागज पर दर्ज आंकड़ों से तौल अधिक आने पर मंत्री जी भड़क गये और अधिकारियों को जमकर फटकार लगाते हुए कहा कि किसान से 52 किलो गेहूं खरीदा जा रहा है और भुगतान 50 किलो को किया जाता है। इस पर केन्द्र प्रभारी ने कहा कि यह सेंटर नया है, ऐसे में तकनीकी गड़बड़ी के चलते ऐसा हो सकता है। इस पर मंत्री ने कहा कि सही तौल कराया जाये, नहीं तो कार्रवाई की जायेगी। सेंटर पर बिखरी हुई यूरिया की बोरियो को देख कर कृषि मंत्री नाराज हो गये। उन्होंने फिर केन्द्र प्रभारी को फटकार लगाते हुए बोरियों को सही ढंग से रखने व उन पर छल्लों को सही तरह से लगाने को कहा। व्यवस्था से नाराज कृषि मंत्री ने आरएम विनय कुमार से कहा कि आपके खिलाफ लिखित कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने जाते-जाते कहा कि किसानों को डीएपी बीज मिलना चाहिए। वह फिर सेंटर का निरीक्षण करने आयेंगे और व्यवस्था में बदलाव नहीं मिला तो कार्रवाई तय है।

कृषि मंत्री ने मृदा परीक्षण प्रयोगशाला का भी निरीक्षण किया
कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने चांदपुर स्थित कृषि विभाग का निरीक्षण किया। यहां पर उन्होंने मृदा परीक्षण प्रयोगशाला में मिट्टी की जांच की जानकारी ली। वहां पर खराब पड़ी मशीनों को तुरंत ठीक कराने को कहा। कृषि मंत्री ने वहां से जाने से पहले कर्मचारी आवास का हाल भी लिया। कृषि मंत्री ने कर्मचारी के जर्जर भवन को ठीक कराने, बीजो की उपलब्धता व रख रखाव की जानकारी का बोर्ड लगाने व परिसर में खराब पड़े हैंड पंप को तत्काल ठीक कराने को कहा है।


ऐसा होता रहा निरीक्षण तो बदल जायेगी तस्वीर
विभिन्न मंत्री इसी तरह अपने विभागों को निरीक्षण करते रहेंगे तो प्रदेश की तस्वीर बदल सकती है। जिन केन्द्रों में मंत्री जाना नहीं पसंद करते थे वहां पर जब मंत्री जाने लगे हैं तो अधिकारी व कर्मचारी में खौफ पैदा होना तय है। किसानों से जुड़े इन केन्द्रों की लगातार निगहबानी होगी तो सबसे अधिक लाभ किसानों को मिलना तय है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned