PNU क्लब प्रबंध समिति ने कुछ पूर्व पदाधिकारियों पर संस्था को बदनाम करने का लगाया आरोप

Varanasi, Uttar Pradesh, India
 PNU क्लब प्रबंध समिति ने कुछ पूर्व पदाधिकारियों पर संस्था को बदनाम करने का लगाया आरोप

जिला प्रशासन से की निष्पक्ष चुनाव कराने की मांग।

वाराणसी.  शहर के प्राचीन क्लबों में शुमार प्रभु नारायण सिंह यूनियन क्लब के मौजूदा पदाधिकारियों ने कुछ पूर्व पदाधिकारियों पर संस्था को बदनाम करने और तोड़ने की साजिश का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि पूर्व पदाधिकारी चिट फंड सोसाइटी के सहायक निबंधक के साथ मिल कर संस्था को तोड़ने में जुटे हैं। पदाधिकारियों ने चिट फंड सोसाइटी के सहायक निबंधक पर भी पूर्व पदाधिकारियों संग मिल कर मनमानी कार्रवाई करने का भी आरोप लगाया। साथ ही जिला प्रशासन से मांग की कि किसी निष्पक्ष अधिकारी की मौजूदगी में क्लब का चुनाव कराया जाए। उन्होंने कहा कि इस मसले पर वे कानून मंत्री से मिल चुके हैं और जल्दी ही मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ से भी मिल कर प्रचीन संस्था को बचाने की गुहार करेंगे।

देखें  वीडियो-

क्लब की प्रबंध समिति शुक्रवार को मीडिया से मुखातिब हुई। उन्होंने बताया कि पूर्व काशिराज द्वारा 1920 में इस संस्था की स्थापना की गई। तब से अब तक के 87 साल के इतिहास में पिछले तीन साल से क्लब के ही कुछ पूर्व पदाधिकारी संस्था को बदनाम करने और इसे बंद कराने की साजिश रच रहे हैं। क्लब के अध्यक्ष रमेश कुमार गिनोडिया ने मई 2015 की घटना का जिक्र करते हुए बताया कि वह भी पूर्व पदाधिकारियों और उनके समर्थकों की साजिश थी जिसके तहत क्लब को बदनाम करने की कोशिश की गई। उसके बाद से लगातार वे लोग चिट फंड सोसाइटी के सहायक निबंधक के साथ मिल कर संस्था को चोट पहुंचा रहे हैं। उन्होंने चिट फंड सोसाइटी के सहायक निबंधक पर जानबूझ कर एकतरफा कार्रवाई का आरोप भी लगाया। कहा कि इन्हीं लोगों के चलते नौ अप्रैल को प्रस्तावित क्लब का चुनाव डीएम ने स्थगित करा दिया जबकि चुनाव की पूरी तैयारी हो चुकी थी। लेकिन डीएम ने ऐन वक्त पर एक आदेश जारी किया जिसमें कानून व्यवस्था का मामला बताते हुए महीने भर के लिए चुनाव स्थगित करने का निर्देश जारी किया।


ये भी पढ़ें- CM योगीकी सख्ती, निजीस्कूलों पर शिकंजा कसने कोजारी हुई गाइड लाइन





क्लब के अध्यक्ष ने सहायक निबंधक पर विगत 10 साल से क्लब के पंजीकरण का नवीनीकरण न करने का आरोप भी लगाया। साथ ही कहा कि संबंधित अधिकारी द्वारा पंजीकरण नवीनीकरण के लिए अतिरिक्त धनराशि की मांग की जा रही है। उन्होंने बताया कि इस मामले में प्रबंध समिति ने सभी संबंधित अधिकारियों को भी इत्तला कर दिया है। अध्यक्ष गिनोडिया, सचिव बलबीर सिंह बग्गा, अनुज डिडवानिया,   राकेश गुलाटी, विजय लिल्हा, राजेश संड, हिमांशु गिनोडिया आदि ने डीएम से जिला प्रशासन के किसी अधिकारी की मौजूदगी में कल्ब का निष्पक्ष चुनाव कराने की मांग की। साथ ही कहा कि सहायक निबंधक से क्लब की सारी पत्रावलि लेकर किसी अन्य अधिकारी को देकर सारे मामले की जांच करा ली जाए। उन्होंने क्लब की प्रतिष्ठा को धूमिल करने वालों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग भी की। उन्होंने मीडिया के समक्ष पूर्व अध्यक्ष और सहायक निबंधक की कार्रवाइयों का दस्तावेज भी पेश किया।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned