अखिलेश सेना के गठन के साथ ही बैकफुट पर आए सपाई और किया... 

Varanasi, Uttar Pradesh, India
अखिलेश सेना के गठन के साथ ही बैकफुट पर आए सपाई और किया... 

सीएम समर्थकों के बकायदा अखिलेश सेना का गठन करने के बाद शिवपाल, मुलायम ने...

वाराणसी. कहते हैं ना प्यार और जंग में सब जायज है,  यहां बात हो रही है राजनीतिक युद्ध की, पारिवारिक टकरार से जूझ रही सपा सरकार की। सपा परिवार का आपसी मतभेद किसी से छिपी नहीं है पर समय रहते अपने सियासी गणित को भिड़ाते हुए एक बार फिर पार्टी में सबकुध ठीक करने की कवायद शुरू हो चुकी है।

कुछ दिनों पहले तक यह खबर आ रही थी कि सपा टूटने के कगार पर है, कारण कि चाचा शिवपाल ने अखिलेश के समर्थकों का टिकट काटते हुए कई जगहों पर प्रत्याशी बदल दिए थे। साथ ही सपा मुखिया मुलायम का पार्टी सीएम चेहरा को लेकर दिया गया।

यह कवायद तब और तेज हो गई जब वाराणसी में यूपी सीएम के समर्थकों ने बकायदा अखिलेश सेना का गठन कर दिया। इसके लिए समर्थक पूर्वांचल में मुहिम चलाकर अखिलेश सेना में लोगों को जोड़ने का काम करेंगे। अखिलेश समर्थकों के इस कदम से मुखिया मुलायम सिंह यादव व उनके भाई सपा प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव की मुश्किलें और बढ़ गईं । क्योंकि इसके लिए अखिलेश का भी समर्थकों को मौन समर्थन मिल रहा है। अखिलेश सेना के गठन की खबर मिलते ही पार्टी के विभिन्न फ्रंटल संगठनों से लेकर तमाम सपा पदाधिकारियों में खलबली मच गई।

फिर नर्म पड़े चाचा शिवपाल ने बलिया में सपा प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने राजनीतिक सरगर्मी को शांत करने वाला बड़ा बयान दिया। शिवपाल ने कहा कि 2017 चुनावों में अगर सपा बहुमत में आयी तो अखिलेश यादव ही मुख्यमंत्री बनेंगे। शिवपाल यादव ने कहा कि हमारे परिवार में कहीं कोई विवाद नहीं है। पूरा परिवार एक साथ है। 
 
पिछले एक माह से सपा में सिर्फ और सिर्फ बयानबाजी हो रही है लेकिन अब स्थिति बदलने वाली है। वाराणसी से सीएम अखिलेश की सेना का गठन हुआ था और वहीं से अब मुलायम सिंह यादव विरोधियों को जवाब देंगे। 

दरअसल मुलायम सिंह यादव ने भी विरोधियों को जवाब देने की तैयारी कर ली है और वह संदेश यात्रा निकालने वाले हैं, जिसका आगाज 9 नवम्बर से काशी में होगा। जिसमें शिवपाल यादव भी सपा सुप्रीमो का साथ देने के लिए उपस्थित रहेंगे। शिवपाल यादव खुद ही हरी झंडी दिखा कर संदेश यात्रा को रवाना करेंगे।

माना जा रहा है कि मुलायम सिंह यादव ने कार्यकर्ताओं में फिर से जोश भरने के लिए ही संदेश यात्रा निकाल रहे हैं। सीएम अखिलेश के समर्थकों को खुश करने के लिए मुलायम सिंह यादव ने पहले ही फिर से सीएम बनाने की बात कर दी है, जिससे संदेश यात्रा के दौरान सपा में समर्थकों को लेकर किसी प्रकार का टकराव ना हो। इस तरह सपा एक बार फिर यूपी चुनाव की जंग के लिए एकजुट होकर तैयारियों में जुट गई है, पर नतीजे क्या होंगे यह तो आने वाला वक्त बताएगा। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned