scriptLes robbers looting of weapons in the temple Vibheeshan | हथियारों से लेस लुटेरों ने विभीषण मंदिर में की लूटपाट | Patrika News

हथियारों से लेस लुटेरों ने विभीषण मंदिर में की लूटपाट

locationजयपुरPublished: Feb 28, 2016 02:19:59 am

Submitted by:

shailendra tiwari

कैथून थाने से केवल दो सौ मीटर दूर विश्व के एक मात्र विभीषण मन्दिर में शुक्रवार देर रात हथियारों से लेस लुटेरों ने लूटपाट की। लुटेरे वहां सुरक्षा के लिए तैनात कांस्टेबल से मारपीट कर 11 हजार की नकदी, सोने की अंगूठी व मोबाइल तथा दानपेटियां तोड़कर राशि लूट ले गए।

कैथून थाने से केवल दो सौ मीटर दूर विश्व के एक मात्र विभीषण मन्दिर में शुक्रवार देर रात हथियारों से लेस लुटेरों ने लूटपाट की। लुटेरे वहां सुरक्षा के लिए तैनात कांस्टेबल से मारपीट कर 11 हजार की नकदी, सोने की अंगूठी व मोबाइल तथा दानपेटियां तोड़कर राशि लूट ले गए।

सूचना पर कोटा से पहुंचे वृत्ताधिकारी आलोक सिंघल के निर्देश पर फरेन्सिक टीम व डॉग स्क्वायड ने गहन छानबीन की, लेकिन लुटेरों का सुराग नहीं लगा।

कैथून थानाधिकारी धनराज मीणा ने बताया कि शुक्रवार रात सवा एक बजे करीब हथियारों के साथ अज्ञात लुटेरे विभीषण मन्दिर पहुंचे और वहां गार्ड रूम में सो रहे कांस्टेबल जानकी लाल से मारपीट शुरू कर दी। लुटेरों के हाथों में तलवार, धारिया व गंडासे थे। कांस्टेबल के पास से 11 हजार रुपए नकद, 11 ग्राम सोने की अंगूठी, घड़ी व मोबाइल लूट लिया। जान से मारने की धमकी देकर दो बदमाश तलवार लेकर उसके पास खड़े रहे व एक अन्य ने साथ में लाई कुदाली व आंकड़ी से मन्दिर की दोनों दानपेटियां तोड़ दी व राशि निकाल कर ले गए।

लुटेरे 20 से 22 वर्ष के
कांस्टेबल ने बताया कि लुटेरों के मुंह खुले थे व उनकी आयु 20 से 22 वर्ष के बीच है। देखने पर लुटेरों को पहचान लेने का दावा किया है। उसे तीन लुटेरे नजर आए। यह संख्या ज्यादा भी हो सकती है। जाते समय मन्दिर परिसर में खड़ी कांस्टेबल की मोटरसाइकिल भी ले गए, जिसे 100 मीटर दूर विभीषण कुण्ड के पास छोड़ कर भाग निकले। लुटेरे कांस्टेबल का मोबाइल भी मन्दिर परिसर में सिम निकालकर फेंक गए। लुटेरों के जाने के बाद कांस्टेबल ने थाने में सूचना दी। रात करीब दो बजे थानाधिकारी मीणा मय जाप्ते मन्दिर पहुंचे व लुटेरों की तलाश शुरू की।

फरेन्सिक टीम व डॉग स्क्वायड ने की जांच
थानाधिकारी ने बताया कि शनिवार सुबह वृत्ताधिकारी सिघंल ने मौका देखा व फ ोरेन्सिक टीम व डॉग स्क्वायड बुलाकर गहन जांच की। डॉग ने लुटेरों द्वारा छोड़े कुदाली व आंकड़ी को सूघंकर आस पास दौड लगाई। डॉग पहले कुण्ड की तरफ गया व वहां से पीछे खेतों में दौडऩे लगा। मौके से थोड़ी दूर देवकिशन गुर्जर के खेत पर जाकर रुक गया। वहां से लुटेरों ने खेत पर बने कमरे का ताला तोड़कर पेन्ट शर्ट, कुर्ता-धोती, कुदाली व आंकडी निकाल कर वारदात को अंजाम दिया।

पुलिस ने कान्स्टेबल व विभीषण मन्दिर ट्र्रस्ट की ओर से अलग अलग मुकदमे दर्ज किए हैं। ट्रस्ट के संयोजक दुर्गाशंकर पुरि ने बताया कि दानपेटियों में कितनी राशि थी, यह बताना मुश्किल है। लेकिन पिछले तीन माह से दान पेटी नहीं खोली गई थी।

ट्रेंडिंग वीडियो