उज्जैन से आए संतों ने बताया वेदों का रहस्य, सुनें क्या कहा उन्होंने 

pankaj shrivastava

Publish: Jul, 18 2017 01:01:00 (IST)

Vidisha, Madhya Pradesh, India
उज्जैन से आए संतों ने बताया वेदों का रहस्य, सुनें क्या कहा उन्होंने 

राम कथा के साथ ही यहां प्रतिदिन सुबह 10 से 12 बजे तक चारों वेदों का पाठ बनारस और उज्जैन से आए संतों के द्वारा किया जा रहा है। जिन्हें सुनने के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है। 

विदिशा। वेदों के सुनने मात्र से जीवन की हर समस्या का समाधान हो जाता है। इनमें सत्य के मार्ग पर चलने के साथ ही धार्मिक कर्मकांड सुदृण करने और आर्थिक रूप से मजबूत करने के संबंध में बताया गया है। यह बात विनायक बैंक्यूट हाल में चल रहे श्रीराम कथा महोत्सव के कथा वाचक पंडित संतोष शास्त्री ने कही।

राम कथा के साथ ही यहां प्रतिदिन सुबह 10 से 12 बजे तक चारों वेदों का पाठ बनारस और उज्जैन से आए संतों के द्वारा किया जा रहा है। जिन्हें सुनने के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है। कथा वाचक शास्त्री ने बताया कि सांसारिक जीवन व्यतीत करते हुए मनुष्य किस तरह के धर्म की राह पर चलकर अपना कल्याण कर सकता है। इस संबंध में चारों वेदों में बताया गया वेदों में हैै जीवन की हर समस्या का समाधान है। 

हर युग में रही है वेदों की प्रधानता
पंडित संतोष शास्त्री ने बताया कि भगवान के मुख से ऋगवेद की स्थापना हुई। फिर वेद व्यास जी ने इन्हें चार भागों में बांटकर यजुवज़्ेद, सामवेद और अर्थववेद की स्थापना की। उन्होंने बताया कि हर युग में इन वेदों की प्रधानता रही है। सतयुग में ऋगवेद के माध्यम से सत्य को प्रतिपादित किया गया। वहीं त्रेतायुग में यजुर्वेद के माध्यम से धमज़् और कर्मकांड सहित आध्यात्म की प्रधानता को प्रतिपादित किया गया। जबकि द्वापर युग में सामवेद के माध्यम से मनुष्य को आनंदित जीवन जीने की कला के गुर सिखाए गए हैं। जबकि अर्थववेद के माध्यम से कलयुग में अर्थ यानि रूपए के महत्व के बारे में बताया गया है। 

इसमें बताया गया है कि किस तरह सत्य के मार्ग पर चलकर भी अधिक अर्थ अर्जित किया जा सकता है। शास्त्री ने बताया कि आज हर घर में वेदों का होना संभव नहीं है। वहीं वेदों के पाठ भी हर जगह नहीं होते हैं। जबकि इनके श्रवण के साथ ही दर्शन का भी महत्व है। इसलिए शहरवासियों को इसका लाभ मिल सके इसलिए उन्होंने श्रीराम कथा महोत्सव में चारों वेदों के पाठ के लिए बनारस और उज्जैन से विद्धानों को बुलाया है, जो प्रतिदिन सुबह 10 से 12 बजे तक वेदों का पाठ करते हैं। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned