आखिर ब्रिटेन में थेरेसा मे क्यों चाहती हैं मध्यावधि चुनाव ?

World
आखिर ब्रिटेन में थेरेसा मे क्यों चाहती हैं मध्यावधि चुनाव ?

ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा मे मध्यावधि चुनाव कराने की सिफारिश कर सकती हैं। मंगलवार को थेरेसा मे ने 8 जून को आम चुनाव कराने की घोषणा की है। 

नई दिल्ली:  ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा मे मध्यावधि चुनाव कराने की सिफारिश कर सकती हैं। मंगलवार को थेरेसा मे ने आठ जून को आम चुनाव कराने की घोषणा की है। डाउनिंग स्ट्रीट से जारी एक अनपेक्षित बयान में प्रधानमंत्री मे ने कहा कि वह सरकार का कार्यकाल पूरा होने से पहले ही चुनाव प्रक्रिया शुरू करने की अपील करती है। कैबिनेट बैठक के बाद थेरेसा मे ने इसकी घोषणा की।

ब्रिटेन को स्थायित्व के लिए मध्यावधि चुनाव
 मे ने कहा कि हमारा इरादा है कि सरकार को आम चुनाव बुलाना चाहिए।ब्रिटेन को स्थायित्व चाहिए। ब्रिटेन यूरोपीय संघ से बाहर आ रहा है और उस फ़ैसले को बदला नहीं जा सकता है।हाल ही में उन्होंने यूरोपीय संघ से अलग होने की औपचारिक प्रक्रिया शुरू करने से संबंधित अध्यादेश पर हस्ताक्षर किए थे।

कंज़रवेटिव सरकार की अवधि 2020 तक 
बता दें कि ब्रिटेन में कंज़रवेटिव सरकार की अवधि 2020 तक थी। डेविड कैमरून के पद छोड़ने के बाद दो चरण में हुए मतदान के बाद प्रधानमंत्री पद के लिए थेरेसा और आंद्रेया लेडसम एक-दूसरे के सामने थीं। लेडसम ने चुनाव से पहले ही अपना नाम वापस ले लिया, जिसके बाद थेरेसा का पीएम बनना सुनिश्चित हो गया। तब 50 फीसद ब्रिटेनवासियों ने कहा था कि थेरेसा अच्‍छी प्रधानमंत्री साबित हो सकती हैं। 

13 जुलाई, 2016 को मे ने पीएम पद की शपथ ली थी
थेरेसा मे ब्रिटेन की प्रधानमंत्री और कंजर्वेटिव पार्टी की नेता है। उन्हें एक राष्ट्र रूढ़िवादी और एक उदार रूढ़िवादी के रूप में जाना जाता है। डेविड केमरून ने जनमत संग्रह के जरिए ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से बाहर आने के फैसले के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद 13 जुलाई, 2016 को उन्होंने ब्रिटेन की दूसरी महिला प्रधानमंत्री के रूप में पदभार ग्रहण किया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned