एमिटी के प्रोफेसर्स की वजह से छात्र ने की आत्महत्या

एमिटी के प्रोफेसर्स की वजह से छात्र ने की आत्महत्या

स्टूडेंट्स ने आरोप लगाया, प्रोफेसर्स ने की उसकी अटेंडेंस शाॅर्ट, यूनिवर्सिटी में हंगामा

नोएडा। एमिटी यूनिवर्सिटी में बीए-एलएलबी की पढ़ाई कर रहे एक स्टूडेंट ने अपने घर पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। इस मामले में मंगलवार को यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स ने यूनिवर्सिटी के गेट पर जमकर प्रदर्शन किया। स्टूडेंट्स ने आरोप लगाया कि प्रोफेसर्स ने उसकी अटेंडेंस शाॅर्ट कर दी थी, जिसकी वजह से वो अपने एग्जाम नहीं दे सका था। वो काफी तनाव में भी आ गया था। वहीं, पुलिस ने मौके से सुसाइड नोट मिलने की बात तो की है लेकिन कारण स्पष्ट होने की बात नहीं की है।

ये है पूरा मामला

दिल्ली का रहने वाला सुशांत रोहिला नोएडा सेक्टर-125 में एमिटी यूनिवर्सिटी से बीए-एलएलबी की पढ़ाई कर रहा था। उसके पिता राज्यसभा के सचिवालय में एक उच्च अधिकारी हैं। पढ़ाई के कारण पिछले कई दिनों से तनाव में चल रहे सुशांत ने 10 अगस्त को दक्षिणी दिल्ली के सरोजनी नगर स्थित अपने घर के कमरे का दरवाजा लॉक कर पंखे से लटकर कर आत्महत्या कर ली। प्राप्त जानकारी के अनुसार, वारदात करने से पहले उसने नाश्ता करने से मना कर दिया था। घटना का पता तब चला जब सुशांत की बहन ने उसके कमरे का दरवाजा खटखटाया लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। काफी देर सुशांत को आवाज देने के बाद उसकी बहन ने अपने पैरेंट्स को बताया। इसके बाद पुलिस को जानकारी दी गई।

मिला सुसाइड नोट, कारण स्पष्ट नहीं

पुलिस ने मौके पर पहुंचकर दरवाजा तोड़ा तो सुशांत पंखे से लटका था। छानबीन में पुलिस को मौके से सुसाइड नोट भी मिला है। पुलिस के मुताबिक नोट से आत्महत्या का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है लेकिन इसमें सुशांत ने अपनी परेशानी लिखी है। पुलिस के अनुसार कारणाें की जांच की जा रही है। हम जल्द ही किसी ना किसी नतीजे पर पहुंच जाएंगे। पुलिस के मुताबिक सुशांत ने अपने सुसाइड नोट में लिखा है ...मैं शर्मिंदा हूं कि एक अच्छा बेटा नहीं बना सका, मैं एक अच्छा भाई और एक अच्छा दोस्त नहीं बन सका। अब मुझे जीने की इच्छा नहीं है।

स्टूडेंट्स ने किया हंगामा


वहीं, 15 अगस्त के अगले दिन स्टूडेंट्स ने काॅलेज के बाहर जमकर हंगामा किया। स्टूडेंट्स ने आरोप लगाया कि पिछले कर्इ दिनों से वो काफी परेशान था। प्रोफेसर ने अटेंडेंस शाॅर्ट होने की वजह से एग्जाम में नहीं बैठने दिया था, जिसकी वजह से उसने अपनी जान दे दी। उन्होंने कहा कि प्रोफेसर्स पर तुरंत कार्रवार्इ होनी चाहिए। जब तक प्रोफेसर पर कार्रवार्इ नहीं होगी। तब वो इसी तरह से प्रोटेस्ट जारी रखेंगे।

काॅलेज की कोर्इ गलती नहीं

एमिटी ग्रुप की कंयूनिकेशन डिपार्टमेंट की वाइस प्रेसीडेंट ने पत्रिका को र्इ-मेल के माध्यम से अपना स्पष्टीकरण भेजते हुए कहा है कि सुशांत रोहिल्ला की मौत से एमिटी लाॅ स्कूल, दिल्ली को काफी नुकसान है। उन्होंने कहा कि एमिटी लॉ स्कूल, दिल्ली, गुरु गोबिंद सिंह आईपी यूनिवर्सिटी, दिल्ली से संबद्ध है। गुरु गोबिंद सिंह आर्इपी यूनिवर्सिटी के निर्णय ही स्कूल में मान्य होते हैं। इस घटना में एमिटी लाॅ स्कूल की कोर्इ भूमिका नहीं है। लाॅ स्कूल के अधिकारी शोक संतप्त माता-पिता से मिलने घर भी पहुंचा था। जहां उन्होंने परिवार को इस बारे में एमिटी लाॅ स्कूल की भूमिका ना होने की बात कही है।
खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned