सुप्रीम कोर्ट ने अनिल शर्मा से पूछा, ‘यह सपना दिन में देखा था या रात में’

एक ऐसा भी अरबपति है जो 2014 में चुनाव लड़ चुका है और अब उसकी संपत्ति निलाम हो सकती है। इसके लिए सुप्रीम कोर्ट ने कड़े शब्दों में संकेत भी दे दिए हैं।

By: Rahul Chauhan

Updated: 07 Sep 2018, 01:45 PM IST

नोएडा। 2019 लोकसभा चुनाव को लेकर जहां एक तरफ सभी राजनीतिक पार्टियों ने तैयारियां शुरू कर दी हैं तो वहीं दूसरी तरफ एक ऐसा भी अरबपति है जो 2014 में चुनाव लड़ चुका है और अब उसकी संपत्ति निलाम हो सकती है। दरअसल, गौतमबुद्धनगर जिले में करीब 42 हजार बायर्स को आशियाने का सपना दिखाने वाले आम्रपाली बिल्डर पर सुप्रीम कोर्ट सख्त नजर आ रहा है।

यह भी पढ़ें : सुप्रीम कोर्ट भी इस बिल्डर के कारनामे से हुआ हैरान, कहा- 'ऐसा फ्रॉड अब तक नहीं देखा'

गुरुवार को हुई सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली ग्रुप के वकील से पूछा कि आप हमें बताइये कि ऐसी कौन-कौन सी प्रोपेर्टी बेची जा सकती है जिससे 1000 करोड़ रुपये का फंड जुटाया जा सकते। ताकि एनबीसीसी बंद पड़े प्रोजेक्ट्स पर काम शुरू कर सके। कोर्ट ने कहा है कि या तो आप बताइये नहीं तो हम आपकी प्रोपेर्टी बेचेंगे और आपका घर भी बेच सकते हैं।

यह भी पढ़ें : ST-ST एक्ट के विरोध के बीच भाजपा ने OBC वोट बैंक साधने के लिए किया ये काम

वहीं आम्रपाली ग्रुप के वकील ने कोर्ट से कहा कि पैसे कहां से जुटाए जाए, इसके लिए प्रपोजल देने के लिए 3-4 दिन का और समय दिया जाए। जिस पर कोर्ट ने कहा है कि अब आपको कोई समय नहीं मिलेगा। इस दौरान वकील ने कहा कि हमारा सपना है प्रोजेक्ट पूरे करना। जिस पर कोर्ट ने पूछा, दिन के सपने या रात के? इस पर कोर्ट ठहाकों से गूंज गया।

यह भी पढ़ें : भारत में एक Metro ने बनाया नया रिकॉर्ड, दुनिया में इस मामले में है दूसरे स्थान पर

होम बायर्स के वकील ने कोर्ट से कहा कि कोर्ट के आदेश के बावजूद आम्रपाली ग्रुप ने अपने CMD अनिल शर्मा के प्रॉपर्टी की डिटेल नहीं दी है। जबकि अनिल शर्मा जब चुनाव में खड़े हुए थे तो उन्होंने अपने संपत्ति का पूरा ब्यौरा चुनाव आयोग को दिया था। उन्होंने कहा कि शर्मा ने चुनाव आयोग में दिए हलफनामे में 850 करोड़ संपत्ति की बात कही थी।

यह भी पढ़ें : सीएम योगी ने कर दिया बड़ा ऐलान, यूपी में यहां बनेगा देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आम्रपाली के हाउसिंग प्रोजेक्ट्स को पूरा करने के लिए जो पैसे की ज़रूरत है वो आम्रपाली ग्रुप के उन संपत्ति को बेचकर जुटाया जा सकता है जो अभी तक बिके नहीं हैं। कोर्ट ने कहा कि NBCC के हिसाब से अगर इन संपत्ति को बेचा जाए तो करीब 2100 करोड़ रुपये मिल सकते है। कोर्ट ने कहा कि इन पैसे से एनबीसीसी 15 हाउसिंग प्रोजेक्ट का काम शुरू कर सकती है। अब इस मामले में अगली सुनवाई 12 सितंबर को होगी।

यह भी पढ़ें : एक्सप्रेस ट्रेन के इमरजेंसी ब्रेक लगने से घबरा गए यात्री, कारण पता लगा तो करने लगे तारीफ

आम्रपाली बायर्स एसोसिएसन ने मेंबर के.के कौशल ने बताया कि सुनवाई के दौरान जस्टिस अरुण मिश्रा ने कड़े शब्दों में आम्रपाली के सीएमडी अनिल शर्मा से पूछा कि सारा पैसा कहां गया? क्या पॉलिटिक्स में चला गया? जिस पर शर्मा उदास सपाट चेहरा लिए खड़े रहे। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि अनिल शर्मा ने हम बायर्स का करोड़ों रुपए दबाकर पटना से 2014 में लोकसभा चुनाव लड़ा था। उन्होंने बताया कि SC ने कहा कि NBCC के देखरेख में आम्रपाली की 16 सम्पत्तियों की नीलामी होगी। जरूरत पड़ने पर इसके लिए प्रोफेशनल फर्म की मदद भी ले सकते हैं। इसके साथ ही उन्होंने बिल्डर से चुनाव आयोग में जमा सम्पत्ति का हलफनामा भी मांगा और उनकी सभी सम्पत्तियों के नक्शे भी मांगे हैं।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned