स्पेशल खबर- आप भी चलाते हैं फेसबुक तो हो जाएं सावधान, किसी भी आने वाले लिंक पर न करें क्लिक

क्लिक करने से आपके साथ-साथ दूसरे fb फ्रेंड्स से भी हो सकती है ठगी, एक गिरोह फेसबुक यूज़र्स को बना रहा शिकार, साइबर क्राइम सेल जांच में जुटी

By: Iftekhar

Published: 18 Aug 2017, 04:02 PM IST

नितिन शर्मा, नोएडा. अाज के समय में युवा से लेकर वयस्क तक अपने व्यावसायिक काम से ज्यादा समय सोशल साइट्स पर देते है। इनमें भी सबसे ऊपर फेसबुक है। जी हां, हम बात करने जा रहे हैं, फेसबुक की। अगर आप भी फेसबुक इस्तेमाल करते हैं, तो इस खबर पर जरूर ध्यान दें, नहीं तो क्या पता आप ही इस गिरोह के अगले शिकार बन जाएँ।

यह गैंग फेसबुक पर लोगों को बनाता है शिकार

दरअसल इन दिनों साइबर अपराधी सोशल साइट फेसबुक पर भी अलर्ट हाे गये हैं। ये लोग यहां सबसे ज्यादा समय बिताने वाले लोगों को ही अपना निशाना बना रहे हैं। ठग इस बार आपका प्राॅफाइल हैक नहीं करते, बल्कि एक नये एंगल से इस तरह ठगी की वारदात को अंजाम देते हैं कि आपको भी पता नहीं लगता कि कब आपके साथ ठगी हो गयी। इतना ही नहीं, ठग जिस शख्स के फेसबुक प्राॅफाइल से यह शुरूआत करता है उसके फ्रेड लिस्ट में जुड़े लोगों से भी वह ठगी करता है।

लिंक पर क्लिक करते ही बन सकते हैं ठगी के शिकार

साइबर एक्सपर्ट किसलय चौधरी के अनुसार साइबर ठग फेसबुक से हूबहू मिलता हुआ एक लिंक लोगों के फेसबुक अकाउंट पर डालते हैं। इसे फिशिंग भी कहा जाता है। इस लिंक पर क्लिक करते ही यह पेज खुलकर यूजर नेम आैर पासवर्ड मांगता है। जैसे ही कोर्इ शख्स इस पर अपना यूजर नेम आैर पासवर्ड डालता है। उनकी यह डिटेल इस लिंक पर सेव हो जाती है। जिसके बाद आरोपी साइबर ठग इसे वाच करते हैं। ये लोग शख्स के फेसबुक प्राॅफाइल से जुड़े लोगों से मैसेज कर खुद को परेशानी में होने की बात कहकर रुपये की डिमांड करते हैं। इतना ही नहीं वे दूसरा फिशिंग लिंक डालकर अन्य शख्स को भी अपना शिकार बना लेते हैं।

साइबर सेल में ठगी के कर्इ मामले आ चुके हैं सामने

नोएडा स्थित साइबर क्राइम सेल में फिशिंग से संबंधित कर्इ ठगी के मामले सामने आ चुके हैं। पीड़़ितों के अनुसार उन्हें इसका पता उनके दोस्तों के काॅल आने पर लगा। जब उन्हें बताया गया कि उन्हें फेसबुक पर मैसेज के जरिये किसी समस्या में फंसे होने का हवाला देकर रुपये की मांग की गर्इ थी। आरोपी ने ये रुपये भी अपने खाते में मंगा लिये थे। साइबर क्राइम सेल पीड़ितों की शिकायत पर आरोपियों का पता लगाने में जुटी है।

इस तरह करें बचाव-

फेसबुक चलाते समय ध्यान रखें.
किसी अनजान द्वारा शेयर किये गए लिंक पर क्लिक न करें.
किसी अनजान को फ्रेड लिस्ट में न जोड़ें.
किसी अनजान से दोस्ती या चैट पर बातें न करें.
अपना पासवर्ड किसी को न बताएं.
मोबाइल में या लैपटाॅप में स्ट्राॅग एंटी वायरस रखें.

Show More
Iftekhar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned