जानिए, नोटबंदी के बाद किस सबसे बड़ी मुसीबत से होना पड़ेगा रूबरू

जानिए, नोटबंदी के बाद किस सबसे बड़ी मुसीबत से होना पड़ेगा रूबरू
500 2000 new note

sandeep tomar | Publish: Dec, 07 2016 04:09:00 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

बैंकों की लंबी लाइनों से भी बड़ी एक समस्या है जिसके बारे में आपने सोचा भी नहीं होगा

नोएडा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नोटबंदी आैर कैशलेस व्यवस्था को बढ़ावा देने से साइबर एक्सपर्ट साइबर फ्राॅड बढ़ने का दावा कर रहे हैं। एेसे में मार्केट में बदलाव आ गया है। कुछ लोग इस कैशलेस व्यवस्था को पसंद कर रहे हैं तो कुछ लोग इस व्यवस्था को समझ भी नहीं पा रहे हैं। एेसे में सरकार इसका क्या हल निकलेगी यह देखने वाली बात होगी। साइबर एक्सपर्ट बताते हैं कि कैशलेस व्यवस्था का इस्तेमाल करते समय आपको सावधानी बरतनी चाहिये। कैसे आप ठगों का शिकार बनने से बच सकते हैं।

कैशलेस व्यवस्था में ठगी का सबसे बड़ा कारण

साइबर एक्सपर्ट किसलय चौधरी बताते हैं कि कैशलेस व्यवस्था बहुत ही अच्छी है। इससे चोरी आैर लूट जैसे अपराध होने का डर तो जरूर खत्म होगा। लेकिन वहीं हम देखें तो हमारे देश में 74 प्रतिशत अक्षर आैर 26 प्रतिशत असाक्षर लोग हैं। 74 प्रतिशत में से भी सिर्फ 11 प्रतिशत ही  टेक्निकल आैर 69 प्रतिशत सेकेंडरी हैं। एेसे में साइबर फ्राॅड करने वाले ठग 26 प्रतिशत लोगों को अपना शिकार बना सकते है। ये 26 प्रतिशत लोग भी आम जन होने के साथ ही अच्छे खासे धन के मालिक हैं। एेसे में इनके साथ साइबर फ्राॅड भी उनकी पूजीं को खत्म कर सकता है। इन्हीं सब कारणों की वजह से कैशलेस व्यवस्था से पहले लोगों को साक्षर करना ज्यादा जरूरी है।

अनपढ़ कैसे इस्तेमाल करेंगे प्लास्टिक मनी

साइबर एक्सपर्ट कहते हैं कि जो लोग अपने साइन आैर नाम लिखना तक नहीं जानते। एेसे लोग कैसे पेटीएम, फ्री चार्ज या सरकार द्वारा कैशलेस व्यवस्था के लिए तैयार किये गये, माध्यमों का इस्तेमाल कैसे कर सकेंगे। अनपढ़ होने के कारण ठग आसानी से उन्हें आॅनलाइन ट्रांजेक्शन, डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड जैसी चीजों में उलझा कर ठगी का शिकार बना सकते है। एेसे लोगों को इन सब से बचाने के लिए सरकार को इसकी ट्रेनिंग देनी होगी या कुछ अन्य व्यवस्था करनी पड़ेगी।

कैशलेस पेमेंट करते समय यह बरतें सावधानियां

साइबर एक्सपर्ट के अनुसार देश में करेंसी गिनना बहुत ही आसान है। छोटे बच्चे से लेकर बड़े बुजुर्ग आैर अनपढ़ तक को नोटों की पहचान होती है। वहीं जब बात करें आॅनलाइन पेमेंट या वाॅलेट से पैसा देेने के विषय में तो यह जितना आसान है। उतना ही एक छोटी सी चूक होने पर बड़ा साबित हो सकता है। एेसे में यह सावधानियां बरतें।

- जल्दबाजी में पेमेंट न करें ।

-अपना पिन आैर कार्ड नंबर किसी से भी शेयर न करें।

- र्इ वाॅलेट में ज्यादा रुपये न रखें।

-अपने मोबाइल आैर कंप्यूटर से पेमेंट करने के बाद इंटरनेट बैंकिग आैर अन्य माध्यमों को बंद कर दें।

-पेट्रोल पंप या किसी शोरूम में पेमेंट करते समय मशीन में खुद ही पिन कोड डालें।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned