दुकान के नाम पर इस बिल्डर ने हड़प लिए लोगों के लाखों रुपये

तीन लोगों ने बिल्डर पर लगाया 57 लाख रुपए की धोखाधड़ी का आरोप

By: Nitin Sharma

Published: 04 Jan 2018, 02:56 PM IST

नोएडा।एक बार फिर शहर में बिल्डर द्घारा कर्इ लोगों से धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। लोगों ने प्रीमिया बिल्डर के खिलाफ दुकान का स्पेस देने के नाम पर 57 लाख रुपये की धोखाधड़ी करने का आरोप लगाते हुए शिकायत की है। तीनों लोगों का आरोप है कि शॉप बुक कराने के नाम पर बिल्डर ने पैमेंट लेकर उनके साथ धोखाधड़ी की है। इसके बाद से बिल्डर आॅफिस बंद कर गायब है। बुधवार को कोतवाली सेक्टर-20 पुलिस से पीड़ितों ने मामले की शिकायत की है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

दुकान के नाम रुपये लेकर धोखाधड़ी करने का लगाया बिल्डर पर आरोप

पुलिस के मुताबिक कमल वर्मा परिवार के साथ दिल्ली-7 में रहते हैं। उन्होंने बताया कि 2013 में सेक्टर- 9 स्थित प्रीमिया बिल्डर के ऑफिस में जाकर उन्होंने 250 गज की एक दुकान बुक की थी। उन्होंने 2016 तक चेक द्वारा दुकान की पूरी पैमेंट 26 लाख रुपए बिल्डर को अदा कर दी है। उन्होंने बताया कि अब पता चला है कि बिल्डर लोगों का पैसा लेकर फरार हो गया। इसी तरह दिल्ली निवासी राजीव गुप्ता ने बताया कि उन्होंने ने भी 2013 में बिल्डर के यहां 250 गज की एक दुकान बुक की थी। पूरी पैमेंट (26 लाख रुपए) उन्होंने बिल्डर को दे दी थी। उन्हें कुछ दिन पहले ही बिल्डर के फरार होने की खबर पता चली है। वहीं सोरखा नोएडा निवासी संगम लाल ने बताया कि उन्होंने भी 2013 में 100 गज की एक शॉप बिल्डर के यहां बुक कराई थी। उन्होंने डाउन पैमेंट 5 लाख रुपए दिए थे। बिल्डर उनका भी पैसा लेकर भाग गया है।

बिल्डर के फरार होने पर लगा पता, थाने पहुंचे पीड़ित

पीड़ितों ने बताया कि वह अब तक अपनी दुकान मिलने का इंतजार कर रहे थे, लेकिन अब उन्हें पता लगा कि बिल्डर अपना सेक्टर-9 स्थित आॅफिस छोड़कर फरार हो गया है। जब उन्होंने बिल्डर के मोबाइल पर काॅल किया, तो उसका नंबर भी बंद मिला। इसके बाद बुधवार को तीनों पीड़ितों ने मामले की शिकायत कोतवाली सेक्टर-20 पुलिस में की है। कोतवाली सेक्टर- 20 प्रभारी निरीक्षक अनिल कुमार शाही ने बताया कि बिल्डर के खिलाफ शिकायत आई है। मामले की जांच की जा रही है।

Show More
Nitin Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned