इस हाईटेक शहर में खेत नहीं, फिर भी सरकार इस तरह उपलब्ध कराएगी सबसे सस्ती सब्जी

इस हाईटेक शहर में खेत नहीं, फिर भी सरकार इस तरह उपलब्ध कराएगी सबसे सस्ती सब्जी

Virendra Kumar Sharma | Updated: 06 Oct 2019, 11:19:34 AM (IST) Noida, Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh, India

Highlights

. जिले में लंबे समय से कोल्ड स्टोरेज बनाने की जा रही थी मांग
. कोल्ड स्टोरेज की वजह से ट्रॉसपोर्ट का बचेगा खर्च
. हर मौसम की सब्जी व फल होंगे उपलब्ध

 

नोएडा. कंक्रीट के जंगल में तब्दील हुए गौतमबुद्ध नगर में कोल्ड स्टोरेज बनाने का रास्ता साफ हो गया है। कोल्ड स्टोरेज के निर्माण के लिए शासन ने जिला प्रशासन को अनुमति दे दी है। इसका निर्माण निर्माण पब्लिक प्राईवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) मॉडल पर किया जाएगा।

सबकुछ ठीक ठाक रहा तो प्रशासन की तरफ से आने वाले एक साल में कोल्ड स्टोरेज का निर्माण कार्य शुरू कर दिया जाएगा। अधिकारियों के मुताबिक, यह यूपी का पहला सरकारी कोल्ड स्टोरेज होगा। हाईटेक जनपद गौतमबुद्ध नगर में खेती की जमीन न के बराबर है। हाईटेेक सिटी में ऊंची-ऊंची इमारते देखने को मिलती है।

दूर-दूर से होती है सब्जी व फल की सप्लाई

गौतमबुद्ध नगर मेंं जनपद के आस-पास के जिले के अलावा दूसरे राज्यों से सब्जी व फल की सप्लाई होती है। सब्जी मंडी समिति के अधिकारियों के मुताबिक, जनपद में महाराष्ट्र, जम्मू-कश्मीर, मध्यप्रदेश, राजस्थान, हिमाचल, उत्तराखंड समेत देश के अन्य राज्यों से फल व सब्जी आती है।

कोल्ड स्टोरेज न होने की वजह से बढ़ जाता है ट्रॉसपोर्ट का खर्च

लंबे समय से गौतमबुद्ध नगर में कोल्ड स्टोरेज बनाने की मांग किसानों की तरफ से की जा रही है। अधिकारियों के मुताबिक, जिले में कोल्ड स्टोरेज बनाने का प्रस्ताव शासन को भेजा गया था। शासन ने कोल्ड स्टोरेज का रास्ता साफ कर दिया है। कोल्ड स्टोरेज होने के बाद हर मौसम की सब्जी व फल खरीद सकेंगे। दरअसल, ट्रॉसपोर्ट की वजह से फल व सब्जी के रेट में प्रति किलो 2 से 5 रुपये तक बढ़ जाता है। इससे थोक से लेकर फूटकर तक के व्यापारियों को महंगी सब्जी मिलती है। कोल्ड स्टोरेज बनने के बाद सब्जी की कीमतों में कमी आएगी। इसकी क्षमता १० मीटि्रक टन होगी।

फेज-2 मंडी समिति के सचिव संतोष कुमार ने बताया कि कोल्ड स्टोरेज बनाने के लिए सरकार ने अनुमति दे दी है। पीपीपी मॉडल पर कोल्ड स्टोरेज बनाने की तैयारी की जा रही है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned