रेलवे ने बुजुर्ग यात्री को दिया 1000 साल आगे का टिकट, उपभोक्त फोरम ने लगाया जुर्माना

Rahul Chauhan

Publish: Jun, 14 2018 03:44:40 PM (IST) | Updated: Jun, 14 2018 05:48:10 PM (IST)

Noida, Uttar Pradesh, India
रेलवे ने बुजुर्ग यात्री को दिया 1000 साल आगे का टिकट, उपभोक्त फोरम ने लगाया जुर्माना

रेलवे के रिजर्वेशन काउंटर द्वारा यात्री को एक हजार साल आगे का टिकट थमा दिया और टीटीई ने टिकट को देखने के बाद जुर्माना कर ट्रेन से भी उतार दिया।

सहारनपुर। अक्सर लोग ट्रेन में सफर करने के दौरान जल्द बाजी में टिकट लेना भूल जाते हैं। वहीं पकड़े जाने पर उन्हें जुर्माना भी भरना पड़ता है। लेकिन सोचिए अगर रेलवे द्वारा ही किसी को 1 हजार साल आगे का टिकट दे दे तो। दरअसल, एक ऐसा ही मामला सामने आया है जिसमें रेलवे के रिजर्वेशन काउंटर द्वारा यात्री को एक हजार साल आगे का टिकट थमा दिया गया। इतना ही नहीं, जब टीटीई ने सफर करते हुए इस यात्री को पकड़ा तो इस टिकट को देखने के बाद जुर्माना कर उन्हें ट्रेन से भी उतार दिया।

यह भी पढ़ें : ट्रेन में सफर करने से पहले जान लें बड़ी बात, रेलवे ने टिकट बुकिंग के लिए शुरु किया नया मोबाइल एप

पांच साल पुराना है मामला

बता दें कि यह मामला वर्ष 2013 का है। सहारनपुर के जौनपुर के लिए विष्णु कांत शुक्ला नामक व्यक्ति ने हिमगिरी एक्सप्रेस के एसी कोच के टिकट का रिजर्वेशन कराया था। इस दौरान उन्हें 3013 का टिकट दे दिया गया। वहीं जब चलती ट्रेन में टीटीई ने चेकिंग तो उसने रेलवे की लापरवाही उन्हीं पर थोपते हुए टिकट को फर्जी बताकर ट्रेन से नीचे उतार दिया। जिसके बाद उन्होंने इसकी शिकायत उपभोक्ता फोरम में की।

यह भी पढ़ें : ट्रेन में सफर करने वालों के लिए बड़ी खबर, रेलवे ने शुरु की ये नई सुविधा, जानकर आप भी कहेंगे 'वाह'

पांच साल चला केस

उपभोक्ता फोरम में पांच साल तक इस मामले के चलने के बाद अब ऐतिहासिक फैसला सुनाया गया है। जिसमें कहा गया कि रिजर्वेशन काउंटर पर टिकट फॉर्म भरते हुए किसी तरह की त्रुटि हुई होगी। वहीं उपभोक्ता फोरम ने रेलवे की दलीलों को व्यावहारिक नहीं माना और फोरम के अध्यक्ष लुकमान उल हक व सदस्य डॉक्टर सनत कौशिक की पीठ ने रेलवे की गलती मानते हुए फैसला सुना दिया। फैसले में कहा गया कि रेलवे की ओर से एक वरिष्ठ नागरिक को परेशान किया गया है। इसके लिए रेलवे को टिकट के पूरे पैसे ब्याज समेत 10 हजार रुपये का जुर्माना और शारीरिक कष्ट देने की एवज में 3 हजार रुपये जुर्माना देना होगा।

यह भी पढ़ें : यूपी के इस जिले में जल्द 180 किमी रफ्तार से चलेगी ऐसी ट्रेन जिसमें आएगा हवाई जहाज जैसा आनंद

फैसले से संतुष्ट रिटायर्ड प्रोफेसर

रिटायर्ड प्रोफेसर डॉक्टर विष्णु कांत शुक्ला ने फैसला पर संतुष्टी जताई है। उनका कहना है कि वह उपभोक्ता फोरम के फैसले से संतुष्ट हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें यकीन था इंसाफ जरूर मिलेगा और इसके बाद अब कम से कम रेलवे को अपनी गलती का एहसास तो हुआ है।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned