साइबर क्राइम में 63 फीसदी की बढ़ोतरी, एक्सपर्ट के इन आसान टिप्स को अपना कर बचें ठगी से

साइबर एक्सपर्ट रक्षित टंडन ने इंटरनेट के जरिए होने वाली ई-मेल तथा फेसबुक एकाउंट की हैकिंग, बैंक खातों से पैसों की चोरी, दूसरे के एटीएम या क्रेडिट कार्ड के जरिए ऑनलाइन शॉपिंग, एयर और ट्रेन के टिकटों की बुकिंग के बारे में चर्चा की। फेसबुक एकाऊंट, एटीएम कार्ड और क्रेडिट कार्ड के पासवर्ड और पिन नंबर बदलते रहने से नहीं होंगे ठगी का शिकार।

By: lokesh verma

Published: 04 Oct 2021, 02:28 PM IST

नोएडा. इंटरनेट के जरिए होने वाले अपराध में दिन-ब-दिन इजाफा हो रहा है। रोज साइबर क्राइम (cyber crime) के कई केस विभिन्न थानों में दर्ज हो रहे हैं। गौतमबुद्ध नगर मे बढ़ते साइबर क्राइम को देखते हुए सेक्टर-108 स्थित पुलिस कमिश्नरेट सभागार में साइबर क्राइम कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस दौरान साइबर विशेषज्ञ (cyber expert) ने पुलिसकर्मियों को साइबर अपराध होने या शिकायत मिलने पर पुलिस की ओर से दी जाने वाली प्रतिक्रिया पर चर्चा की। इस मौके पर साइबर अपराध से बचाव के उपाय बताए गए। साथी ही बचाव के लिए कुछ सावधानी बरतने की भी हिदायत दी गई।

बदलते रहें फेसबुक अकाउंट, एटीएम कार्ड और क्रेडिट कार्ड के पासवर्ड और पिन नंबर

साइबर क्राइम कार्यशाला में साइबर एक्सपर्ट रक्षित टंडन ने इंटरनेट के जरिए होने वाली ई-मेल तथा फेसबुक एकाउंट की हैकिंग, बैंक खातों से पैसों की चोरी, दूसरे के एटीएम या क्रेडिट कार्ड के जरिए ऑनलाइन शॉपिंग, एयर और ट्रेन के टिकटों की बुकिंग के बारे में चर्चा की। फेसबुक और वाट्सएप की प्रोफाइल फोटो के गलत इस्तेमाल तथा फेसबुक एकाऊंट हैक कर दूसरों को अश्लील या आपत्तिजनक मैसेज भेजने के भी मामले लगातार सामने आ रहे हैं। जरा सी सावधानी और कुछ उपाय अपनाकर साइबर शातिरों का शिकार होने से बचा जा सकता है। टंडन ने साइबर अपराध के तरीके और उपायों के जानकारी दी। सलाह दी कि फेसबुक एकाऊंट, एटीएम कार्ड और क्रेडिट कार्ड के पासवर्ड और पिन नंबर बदलते रहें।

यह भी पढ़ें- काम की खबर: वाहनों की आरसी ट्रांसफर करवाना अब होगा आसान, बस करना होगा ये काम

कोरोना काल सबसे ज़्यादा 63 प्रतिशत का इज़ाफ़ा

गौतमबुद्ध नगर पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह ने बताया बढ़ता चैलेंज, भय, डर और लालच ही साइबर क्राइम को बढ़ावा देता है। साइबर क्राइम कोरोना काल सबसे ज़्यादा बढ़ने वाला क्राइम है, जिसमें 63 प्रतिशत का इज़ाफ़ा हुआ है। ऑनलाइन चीटिंग और ऑनलाइन फ्रॉड के सबसे ज्यादा केस रजिस्टर्ड किए जाते हैं। इन्हीं से निपटने के ट्रेनिंग के लिए इस कार्यशाला का आयोजन किया गया। रुटीन के साइबर इंसिडेंट को कैसे हैंडल किया जाए? इसकी ट्रेनिंग दी जा रही। आलोक सिंह ने आगे कहा कि गौतमबुद्ध नगर के तीनों ज़ोन में साइबर डेस्क बनाई जाएगी और इसके सेकंड फेज में सभी थाने में एक साइबर हेल्प डेस्क बनाई जाएगी।

200 पुलिसकर्मियों ने लिया प्रशिक्षण

साइबर विशेषज्ञ रक्षित टंडन ने बताया कि पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों को साइबर अपराध होने पर पुलिस का पहला रेस्पांस क्या रहे, इस विषय पर विस्तृत जानकारी दी गई है। इस कार्यशाला में मुख्य रूप से पीड़ित की शिकायत मिलने पर उसको तुरंत सहायता कैसे दी जाए, इसको लेकर चर्चा हुई है। इसके अलावा ऐसे टूल्स के विषय मे भी जानकारी दी गई है, जिनकी मदद से साइबर अपराधियों तक पहुंचा जा सकता है। कार्यशाला में तीनों जोन के डीसीपी, एडीसीपी, सभी सहायक पुलिस आयुक्त और थानों से आए लगभग 200 पुलिसकर्मियों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया।

यह भी पढ़ें- युवती को अगवा कर किया दुष्कर्म, परिजनों की तहरीर पर मुकदमा दर्ज

lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned