साइबर थाने की पुलिस ने किया फाइनेंशियल कंपनी के कर्मचारियों का 'किडनैप’, मांगी 7 लाख की रिश्वत

Highlights:

-फर्जी तरीके से फाइनेंशियल कंपनी चलने की जांच की एवज में वसूली

-साइबर थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर समेत पाँच कांस्टेबल फरार

-पुलिस ने कांस्टेबल समेत दो आरोपियों को जेल भेजा

By: Rahul Chauhan

Published: 16 Feb 2021, 04:35 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

नोएडा । फेज-3 कोतवाली पुलिस ने फ़ाइनेंशियल सर्विसेज कंपनी के तीन कर्मचारियों का अपहरण करने और सात लाख रुपए रिश्वत मांगने के आरोप में सेक्टर 36 स्थित साइबर थाने में तैनात कांस्टेबल नितिन चौधरी और गाज़ियाबाद निवासी सोनू को गिरफ्तार किया है। इस मामले में शामिल सब इंस्पेक्टर चेतन प्रकाश, कांस्टेबल सुमित पावला, कांस्टेबल सुमित शर्मा, कांस्टेबल अतुल नागर व कांस्टेबल सुमित मंडार फरार बताए जा रहे हैं। जिनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीमे जुटी हुई है।

यह भी पढ़ें: ट्रैफिक पुलिस ने अब दोपहिया वाहन चालकों के खिलाफ शुरू की ये बड़ी कार्रवाई

दरअसल, पुलिस की गिरफ्त में आए दोनों आरोपियों में एक साइबर थाना में तैनात पुलिस का कांस्टेबल नितिन चौधरी है और दूसरा गाज़ियाबाद निवासी सोनू है। इन दोनों को एसीपी और उनकी टीम ने नोएडा स्टेडियम के पास से उस समय गिरफ्तार किया, जब यह रिश्वत के 3 लाख रुपये लेने के लिए आए थे। डीसीपी सेंट्रल हरीशचंद्र ने बताया कि आरोपियों को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो पता चला कि 10 फरवरी को सेक्टर-65 में स्थित मेरी बंधन फ़ाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड के कार्यालय पर सादे कपड़ों में साइबर थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर चेतन प्रकाश अपनी टीम के साथ पहुंचे। जो इस शिकायत की जांच कर रहे थे कि कंपनी फर्जी तरीके से चलाई जा रही है। वहाँ से इन लोगों ने वासिम, सुहेल और परवेश को पकड़ कर अपने साथ ले आए और जिन्हें छोड़ने के एवज में सात लाख मांगे गए थे। बाद में 5 लाख में सौदा तय हो गया और 2 लाख रुपए देकर उसी दिन तीनों को छोड़ दिया गया। इसके बाद 3 लाख की लगातार मांग की जा रही थी और नहीं देने पर फर्जी कंपनी चलाने के मामले में फंसा देने की धमकी दी जा रही थी।

यह भी देखें: बसपा नेता कलामुद्दीन को बदमाशों ने मारी गोली

डीसीपी ने बताया कि 14 फरवरी को 3 लाख की रिश्वत को लेने के लिए ही कॉन्स्टेबल नितिन चौधरी ने अपने मित्र सोनू को नोएडा स्टेडियम भेजा था। इस बीच मेरी बंधन फ़ाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड के माजू चौहान ने सेक्टर 12-22 चौकी में शिकायत कर दी। पुलिस ने सोनू को रुपए के साथ रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के दौरान सोनू ने बताया कि उसे साइबर थाने में तैनात पुलिस कांस्टेबल नितिन चौधरी ने पैकेट लेने के लिए भेजा था। पुलिस ने जब नितिन चौधरी को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो सारा मामला खुलता चला गया और अन्य पाँच आरोपी फरार हो गए। पुलिस ने माजू चौहान की तहरीर पर आईपीसी की धारा 342, 386 383 और धारा 7 भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर कॉन्स्टेबल नितिन चौधरी और सोनू को गिरफ्तार किया गया है, जबकि अन्य फरार अभियुक्तों की तलाश की जा रही है।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned