सपा नेता से गूगल के नाम पर 1 रुपये लेकर ठग लिए हजारों, जानिए कैसे

सपा नेता से गूगल के नाम पर 1 रुपये लेकर ठग लिए हजारों, जानिए कैसे

Rahul Chauhan | Updated: 19 Jul 2019, 04:04:31 PM (IST) Noida, Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh, India

खबर की मुख्य बातें-

-बुधवार को साइबर ठगों ने बिना ओटीपी नंबर जनरेट हुए ही उनके क्रेडिट कार्ड से 31,619 रुपये निकाल लिए

-घटना की रिपोर्ट सेक्टर-24 स्थित साइबर थाने में दर्ज कराई गई है

-मामला समाजवादी मजदूर सभा के प्रदेश सचिव के साथ हुआ है

नोएडा। डिजिटल इंडिया का नारा आम लोगों पर भारी पड़ने लगा है। इस व्यवस्था में साइबर क्राइम में बेतहाशा इजाफा हुआ है। लेकिन, पुलिस साइबर क्राइम पर प्रभावी अंकुश लगाने में नाकाम साबित हो रही है। ताजा मामला समाजवादी मजदूर सभा के प्रदेश सचिव के साथ का सामने आया है। बुधवार को साइबर ठगों ने बिना ओटीपी नंबर जनरेट हुए ही उनके क्रेडिट कार्ड से 31,619 रुपये निकाल लिए। घटना की रिपोर्ट सेक्टर-24 स्थित साइबर थाने में दर्ज कराई गई है।

यह भी पढ़ें: युवक को नशा देकर किन्नर ने उसके साथ किया ये काम, जानकर उड़ जाएंगे होश

साइबर अपराधियों की ठगी का शिकार हुए सपा नेता हीरालाल यादव सेक्टर-71 के मेट्रो अपार्टमेंट में रहते हैं। उनका कारोबार अट्टा मार्केट में है। पीड़ित हीरालाल यादव ने बताया कि बुधवार की शाम 5:30 से 6:30 बजे के बीच क्रमश: 18 रुपये और फिर 7900, 7900, 7900, 7900 रुपये उनके क्रेडिट कार्ड से निकल गए। जबकि इसके लिए उनके पास कोई ओटीपी नंबर भी नहीं आया था। उन्होंने बताया कि यह रकम ट्यून्सडॉटकॉम और एक रुपया गूगल के नाम से निकाला गया।

यह भी पढ़ें: भू-माफिया घोषित होते ही आजम खान पर 10 और मुकदमे दर्ज, अब तक रजिस्टर हुए 23 केस

हीरालाल ने बताया कि उनके मोबाइल पर पैसे निकालने की जानकारी आने के बाद उन्होंने क्रेडिट कार्ड कंपनी को फोन कर आपत्ति जताई और कार्ड ब्लाक करा दिया। साइबर थाने ने हीरालाल यादव की शिकायत पर एफआईआर दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned