नोटबंदीः थाने में 8 घंटे तक हुई 28 लाख की फोटोकॉपी

नोटबंदीः थाने में 8 घंटे तक हुई 28 लाख की फोटोकॉपी
Dump Photocopy machine

sandeep tomar | Publish: Dec, 05 2016 06:29:00 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

यह रकम पुलिस के मालखाने में जमा था जिसकी फोटोकॉपी कराई गई है, जानिए क्यों

नोएडा। नाेटबंदी के बाद जिन लोगों के रुपये किसी न किसी वजह से पुलिस कस्टडी में है। वह अपने रुपये निकालने के कोर्ट के दरवाजे खटखटा रहे हैं। इसी कड़ी में 28 लाख रुपये जब्त एक शख्स के रुपयों को खराब होने से बचाने के लिए कोर्ट ने नोटों की फोटो काॅपी कर पुलिस कस्टडी में रखने का आदेश दिया। साथ ही यह सब पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में करने के आदेश दिये। कोर्ट का यह फैसला नोटबंदी के इस समय में एक नजीर भी बन सकता है।

जानिए क्या था मामला

दिल्ली के शहादरा निवासी एमिटी विश्वविधालय से बीटेक के छात्र आकाश अग्रवाल 4 मई 2013 में सेक्टर-125 स्थित अपहरण कर लिया गया था। अपहरणकर्ताओं ने 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी थी। इनमें से 28 लाख रुपए की फिरौती देकर आकाश को रिहा कराया गया था। कुछ दिनों बाद नोएडा पुलिस ने अपहरण करने वाले बदमाशों को गिरफ्तार किया था। साथ ही उनके पास से अपहरण के रूप में लिए गए 28 लाख रुपए बरामद किए थे। यह मामला अभी सूरजपुर कोर्ट में चल रहा है। एेसे में फिरौती की रकम केस प्रॉपर्टी होने के चलते सेक्टर-३९ स्थित मालखाने में रखा हुआ था।

कोर्ट पहुंचा पीड़ित

फिरौती के 28 लाख रुपयों में ज्यादातर एक हजार और पांच सौ के नोट थे। यह सभी रुपये पुलिस ने बदमाशों से रिकवर कर मालखाने में जमा किए हुए थे। मोदी सरकार ने 8 नवंबर को इन नोटों को बंद करने का एेलान कर दिया था। इसी के बाद से अपने रुपये खराब होने के डर से पीड़ितों ने सूरजपुर कोर्ट में अपने 28 लाख रुपये निकालकर नोट बदलवाने की अपील की। लेकिन आरोपियों पर केस चलने व आरोप सिद्घ न होने तक रुपये पुलिस की कस्टडी में रहने के चलते रुपये नहीं मिल सकते थे।

फोटो काॅपी कर बचाए रुपये

अग्रवाल के 28 लाख रुपये खराब होने से बचाने के लिए कोर्ट ने कुछ शर्तों के साथ एक फैसला सुनाया। इसमें उन्होंने पुलिस अधिकारियों को आकाश के पक्ष में 28 लाख रुपये जारी करने का आदेश दे दिया। साथ ही थाने में ही नोटों की फोटोकाॅपी कराकर रखने के आदेश दिये। इसमें होने वाला खर्चा भी पीड़ित को ही वहन करने के आदेश दिये गये। साथ ही नोटों की जगह उनकी फोटोकाॅपी को सील कर मालखाने में रखने के आदेश दिये।

आठ घंटे में हुर्इ फोटोकाॅपी


कोर्ट के आदेश अनुसार अाकाश अग्रवाल कोतवाली सेक्टर-39 में चार फोटोकाॅपी मशीन लेकर पहुंचा। कोतवाली प्रभारी अमरनाथ यादव ने बताया कि कोर्ट के आदेश का पालन करते हुए हमने अग्रवाल को मालखाने से 28 लाख की करेंसी सौंपी। इसकी फोटो काॅपी थाने परिसर में ही अपने सामने करार्इ। इसमें करीब आठ घंटे लगे। पुलिस ने फोटोकॉपी को जब्त कर एक हजार और पांच सौ के नोट में मौजूद 28 लाख की रकम पुलिस सुरक्षा में पीड़ित के दिल्ली स्थित घर तक पहुंचा दी। वहीं अमरनाथ यादव ने बताया कि अगर कोर्ट में फिरौती की रकम पीड़ित की नहीं पाए जाने पर आकाश से 28 लाख रुपये की वसूली की जाएगी।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned