बैंक मैनेजर की गाड़ी से मिले एक करोड़ के नए नोट  

बैंक मैनेजर की गाड़ी से मिले एक करोड़ के नए नोट  
Rs 2000

दादरी में पुलिस को काली होंडा सिटी कार में मिले रुपये 

दादरी। दादरी में पुलिस ने गुरुवार की शाम एक काली होंडा सिटी कार में सवार तीन व्यक्तियों से एक करोड़ रुपये के नये नोट बरामद किए हैं। कैश ले जा रहे कार सवार तीनों युवकों को पुलिस ने थाने पहुंचाया। यहां से पुलिस ने उन्हें रुपये के साथ छोड़ दिया। एेसे में पुलिसकर्मियों की इस कार्रवार्इ पर सवाल खड़े हो रहे है। वहीं, दादरी कोतवाली प्रभारी ने बताया कि रुपया ले जाने वाले शख्स बैंक मैनेजर थे। वह बैंक में रुपया ले जा रहे थे। अगर ये मान भी लिया जाए कि रुपया बैंक का था अौर ले जाने वाले बैंक मैनेजर थे, तो सवाल उठता है कि उन्हें थाने क्यों लाया गया था। उनके पास आर्इडी आैर चालक के पास लाइसेंस समेत अन्य कागजात क्यों नहीं थे।

दिल्ली से खुर्जा ले जाये जा रहे थे नोट, दादरी बार्इपास पर चेकिंग में पकड़े

पुलिस के मुताबिक काली होड़ा सिटी कार सवार तीन युवक गुरुवार शाम करीब पांच बजे दिल्ली से खुर्जा की तरफ जा रहे थे। इसी दौरान दादरी बार्इपास पर वाहनों की चेकिंग कर रहे, ट्रैफिक एचसीपी दौलत राम यादव ने काली होंडा सिटी को चेकिंग के लिए रोक लिया। उन्होंने कार की चेकिंग की। इस पर कार के अंदर एक बैग में २००० के एक करोड़ रुपये के नए नोट रखे मिले। ट्रैफिक पुलिकर्मी ने बताया कि कार में सवार तीनों लोगों में एक ने अपना नाम अतिश्रेष्ठ, दूसरे ने वरूण भटनागर आैर तीसरा चालक था। अतिश्रेष्ठ आैर वरूण भटनागर ने पुलिस को बताया कि वह इलाहाबाद बैंक के मैनेजर हैं, लेकिन किसी के पास कोर्इ आर्इडी आैर दस्तावेज न होने के चलते ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने उन्हें दादरी कोतवाली पहुंचा दिया। यहां से कुछ घंटे बाद ही उन्हें छोड़ दिया गया।

संदेह के घेरे में आर्इ पुलिस, खड़े हो रहे सवाल


एक सरकारी बैंक के ब्रांच मैनेजर की मानें तो कोर्इ भी बैंककर्मी सरकारी रुपयों को अपनी प्राइवेट गाड़ी में नहीं ले जा सकता है। यह आरबीआर्इ के निर्देशों के खिलाफ है। इसके साथ ही एक करोड़ रुपये जैसी बड़ी करेंसी इलाहाबाद बैंक के लिए गाजियाबाद के नवयुग स्थित मनीचेस्टर से मिलती है। यह करेंसी किसी भी बैंक में आरबीआर्इ की गाइड लाइन पूरी करने पर एजेंसी ही ले जा सकती है। इसके साथ ही किसी बड़ी इमरजेंसी में भी अगर आप प्राइवेट गाड़ी से रुपया ले जा रहे है, तो लोकल पुलिस को सूचना देकर पीसीआर या पुलिसकर्मी की मदद लेनी अनिवार्य है। लेकिन इस काली होंडा सिटी कार में रुपया लेकर खुर्जा जा रहे आैर खुद को बैंक मैनेजर बता रहे कथित अधिकारियों ने इसमें से कुछ भी नहीं किया।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned