20 गांव के किसानों ने छेड़ी प्राधिकरण के खिलाफ जंग, एक्सप्रेस वे किया जाम

20 गांव के किसानों ने छेड़ी प्राधिकरण के खिलाफ जंग, एक्सप्रेस वे किया जाम
protest

sandeep tomar | Publish: Dec, 29 2016 07:51:00 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

धरने पर बैठ किसानों ने प्राधिकरण के सामने रखी 12 डिमांड

नोएडा। हार्इटेक सिटी के सेक्टरों की तरह गांव के विकास समेत १२ मांगों को लेकर करीब २० गांव के किसानों ने प्राधिकरण के खिलाफ जंग छेड़ दी है। धरने पर बैठे किसानों ने गुरुवार को रैली निकाली। इसके साथ ही एक्सप्रेस वे पर वाहनों को रोक दिया। एेसे में एक्सप्रेस वे आैर उसके सर्विस रोड पर वाहनों की लाइन लग गर्इ। किसानों की रैली आैर धरने में सबसे ज्यादा महिलाएं शामिल रहीं। पुलिस ने किसानों को समझा बुझाकर रोड से हटाया। इसके बाद किसान सेक्टर-४५ में अपने धरना स्थल पर वापस पहुंचे।

धरने पर बैठे किसान आैर सदरपुर गांव के प्रधान मुनेश ने कहा कि हमारी जमीनों पर नोएडा जैसा हार्इटेक शहर बसाया गया है, लेकिन इसको बसाने में हमारे साथ ही धोखाधड़ी की गर्इ है। प्राधिकरण सेक्टर आैर शहरों का विकास तो कर दिया, लेकिन जिन किसानों की जमीन पर ये बसे हैं उनके गांव का विकास करना प्राधिकरण अधिकारी भूल गये। हमारी मांगे है कि समस्त गांवों का विकास नोएडा की तर्ज पर किया जाये। समस्त गांवों व कालोनियों में स्वास्थय केन्द्रों का निर्माण व पानी की व्यवस्था शीध्र चालू की जाये। सभी किसानों को उच्चतम न्यायालय के आदेश के नियमावली 1997 से ही आज तक का बढ़ा हुआ 64.7 प्रतिशत मुआवजा दिया जाये, चाहे कोई किसान न्यायलय गया हो या नहीं, सभी किसानों माननीय उच्चतम न्यायलय के आदेश के अनुपालन में करार नियमावली 1997 से आज तक 10 प्रतिशत/ अति रिक्त 5 प्रतिशत के आवासीय भूखण्ड आवंटित किये जाये।

दस प्रतिशत आवसीय भूखड न मिलने तक बिल्डर को दिया जाए कब्जा

किसानों ने कहा कि बिल्डर्स को सेक्टर 43, 146, 147 में ग्रुप हाउंसिंग के लिए जमीन पर कब्जा देने से पहले किसान को उसके 10 प्रतिशत के आवासीय भूखण्ड दिये जाये। डीपी चौहान ने धरने को संबोधित करते हुए कहा कि नोएडा में संचालित पब्लिक स्कूलों व अस्पतालों में ग्रामवासियों को मुफ्त प्रवेश व इलाज की सुविधा प्रदान की जाये। किसान कोटा स्कीम जो कि 2011 से गतिमान है उसके पात्र किसानों को शीघ्र भूखण्ड आवंटित किये जाये। मुनेश प्रधान ने कहा कि नोएडा मेट्रो रेल, नगर बस सेवा व प्राधिकरण में लगने वाले उद्योगों में प्राथमिकता के आधार पर ग्रामीण युवाओं को योग्यता के आधर पर नौकरी दी जाये।

मांगे पूरी न होने तक चलेगा धरना

धरने पर बैठे सुरेंद्र प्रधान ने कहा कि हम अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं और यह धरना दिन प्रतिदिन फैलता जायेगा। जब तक मांगे पूरी नहीं होगी। धरना जारी रहेगा। हर रोज रैली निकालने के साथ ही प्राधिकरण आैर प्राइवेट बिल्डरों के काम को रुकवाया जाएगा। धरने में २० गांवों के किसान से लेकर जिला पंचायत सदस्य समेत अन्य किसान मौजूद रहे।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned