बेटे के कोरोना वायरस पॉजिटिव होने की खबर सुनते ही पिता ने तोड़ दिया दम

Highlights

- दादरी थाना क्षेत्र के बिश्नूली गांव की घटना

- पिता के अंतिम दर्शन भी नहीं कर सका कोरोना पीड़ित बेटा

- स्वास्थ्य विभाग ने चार लोगों को किट देकर कराया अंतिम संस्कार

By: lokesh verma

Published: 30 Mar 2020, 01:19 PM IST

नोएडा. प्रदेश में सबसे ज्यादा कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद से गौतमबुद्ध नगर जिले में हड़कंप मचा हुआ है। बता दें कि जिले में रविवार को भी कोराेना पॉजिटिव के चार मामले सामने आए, जिनमें दादरी थाना क्षेत्र के बिश्नूली गांव से भी एक युवक कोरोना पीड़ित मिला था। बताया जा रहा है कि जैसे ही बेटे की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो यह सदमा उसके पिता बर्दाश्त नहीं कर सके और इसी सदमे में उन्होंने दम तोड़ दिया। वहीं इससे पहले ही कोरोना पीड़ित युवक की पत्नी, दो बेटों, बहन के साथ भांजे को आइसोलेशन मेंं भेज दिया गया था। कोरोना पीड़ित युवके के पिता की मौत के मामलेे को प्रशासन ने गंभीरता से लेते हुए परिवार के चार लोगाें को किट देते हुए पिता के अंतिम संस्कार की अनुमति दी। इसके बाद छोटे बेटे ने गमगीन माहौल के बीच अंतिम क्रिया पूरी करते हुए पिता को मुखाग्नि दी।

यह भी पढ़ें- Lockdown के दौरान मस्जिदों में छिपे 19 विदेशी नागरिक पकड़े, शरण देने वालों के खिलाफ केस दर्ज

दरअसल, रविवार को गौतमबुद्ध नगर जिले में चार नए केस सामने आए थे, जिनमें एक दादरी थाना क्षेत्र के बिश्नूली गांव का युवक भी शामिल था। बता दें कि पीड़ित युवक भी नोएडा सेक्टर-135 उसी कंपनी में काम करता था, जहां लंदन से ऑडिटर आया था। युवक के परिजनों का कहना है कि रविवार सुबह ही जिला प्रशासन ने उन्हें कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी दी थी। बेटे की रिपोर्ट पाॅजिटिव आते ही कैंसर पीड़ित पिता को गहरा सदमा लगा और देखते ही देखते उन्होंने दम तोड़ दिया।

यह देख्रते ही परिवार के अन्य सदस्य दहशत के साथ शोक में डूब गए। उन्होंने कोरोना फैलने की डर से इसकी जानकारी तुरंत जिला प्रशासन को दी। सूचना के बाद मौके पर पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मृतक के छोटे बेटे समेत चार अन्य को किट देते हुए अंतिम संस्कार की अनुमति प्रदान की। इसके बाद छोटे बेटे ने अंतिम संस्कार की प्रक्रिया पूरी करते हुए पिता को मुखाग्नि दी। इस दौरान अंतिम संस्कार में परिवार समेत गांव के कुछ लोग भी शामिल हुए, लेकिन प्रशासन के निर्देश के चलते वह दूर ही खड़े रहे। परिजनों ने बताया कि बड़ा बेटा पिता के अंतिम दर्शन भी नहीं कर सका। दादरी सीएचसी इंचार्ज डॉ. अमित कुमार ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की मौजूदगी में सुरक्षित तरीके से अंतिम संस्कार किया गया है।

यह भी पढ़ें- Noida में कोरोना के 31 केस सामने आने के बाद जेल से रिहा किए गए 23 कैदी, 56 की रिहाई आज

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned