इस भारतीय नोबेल पुरस्कार विजेता के जीवन के संघर्ष पर बनाई गई फिल्म

इस भारतीय नोबेल पुरस्कार विजेता के जीवन के संघर्ष पर बनाई गई फिल्म

Ashutosh Pathak | Publish: Aug, 08 2019 12:57:38 PM (IST) | Updated: Aug, 08 2019 01:01:38 PM (IST) Noida, Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh, India

  • नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी के जीवन पर बनाई गई फिल्म
  • डॉक्यूमेंट्री 'प्राइस ऑफ फ्री' की एमिटी में स्क्रीनिंग
  • बच्चों को प्रेरित करती है ये डॉक्यूमेंट्री

 

नोएडा। भारत के नोबेल शांति पुरस्कार विजेता ( Nobel Peace Prize Winner ) समाजसेवी कैलाश सत्यार्थी के जीवन और संघर्ष पर निर्देशक डैनी डैनी द्वारा 'द प्राइस ऑफ फ्री' एक डॉक्यूमेंट्री बनाई गई है। जिसकी स्क्रीनिंग एमिटी विश्वविद्यालय ( Amity University ) में की गई। यह फिल्म नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी के जीवन पर बनाई गई डॉक्यूमेंट्री है, जो कैलाश सत्यार्थी के बाल श्रम व दासता को खत्म करने की कहानी को बयां करती है। इस अवसर पर एमेटी स्कूल के बच्चों ने गीतों पर भाव पूर्ण प्रस्तुति दी।

ये भी पढ़ें : VIDEO: ***** की हत्या कर टुकड़े-टुकड़े करने वाले वाले बदमाश ने सिपाही से कही ये बात और कस्टडी से हो गया फरार

दरअसल 'द प्राइस ऑफ फ्री' ( The price of free ) स्क्रीनिंग का मौका था, जहां फिल्म के माध्यम से सत्यार्थी के उन प्रयासों को दिखाने की कोशिश की गई है, जिसमें वे उन कमजोर और वंचित तबकों के बच्चों को शोषण के चंगुल से मुक्त कराने में सफल होते हैं, जिनसे जबरन मजदूरी कराई जाती है। कैलाश सत्यार्थी में कठिन परिश्रम और संघर्ष 88 हज़ार की जिंदगी को कैसे बचाया। कैलाश सत्यार्थी मानते हैं कि यह काम अपनी विल पावर से कोई भी और किसी समय और कहीं से भी शुरू कर सकता है। नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित कैलाश सत्यार्थी के जीवन और संघर्ष पर बनी डॉक्यूमेंट्री को बच्चों को प्रेरित करना है।

ये भी पढ़ें : VIDEO: भयंकर टक्कर से ट्रकों के उड़े परखच्चे, मौके पर पहुंचे पुलिस तभी लग गई ट्रक में आग

इस दौरान कैलाश सत्यार्थी ने लोगों से कहा कि वे एक ऐसी दुनिया के निर्माण में हमारा सहयोग करें, जहां सभी बच्चे स्वतंत्र, स्वस्थ, सुरक्षित और शिक्षित हों। कैलाश सत्यार्थी कहते हैं कि कई हमलों और दहशत के बावजूद बच्चों को आजाद कराने का हमारा सिलसिला अभी थमा नहीं है। उन्होंने कहा कि यह फिल्म हमारे अंतरमन में करुणा, आशा और साहस का भी संचार करती है।

ये भी पढ़ें : बड़ी खबर: यूपी के इस जिले में एसएसपी ने दी चेतावनी, सड़क पर पढ़ी नमाज तो होगी कार्रवाई

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned