बैंक में लगी आग, लाखों रुपये जलने का अनुमान

बैंक में लगी आग, लाखों रुपये जलने का अनुमान
fire at bank

sandeep tomar | Publish: Dec, 04 2016 06:16:00 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

नोटबंदी के बाद बैंक आैर एटीएम मशीनों में आग लगने की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं

नोएडा। नोटबंदी के बाद बैंक आैर एटीएम मशीनों में आग लगने की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। शनिवार देर रात भी नोएडा के सेक्टर-१५ स्थित यूनियन बैंक में अचानक ही आग लग गर्इ। लोगों ने लपटें देख इसकी सूचना पुलिस अौर फायर बिग्रेड को दी। सूचना पर पहुंची फायर बिग्रेड ने करीब आधे घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया, लेकिन जब तक बैंक में लाखों रुपये का सामान जल कर स्वाह हो गया। आग से कितनी करेंसी समेत अन्य क्या नुकसान हुआ है, अभी तक इसका खुलासा नहीं हो सका है।

बैंक में एक हजार से भी ज्यादा लोगों के खाते

सेक्टर-१५ स्थित यूनियन बैंक में करीब एक हजार से भी अधिक लोगों के खाते हैं। वहीं नोटबंदी के बाद से बैंकों में करेंसी आने आैर जमा करने का काम जोरों पर है। एेसे में अनुमान लगाया जा रहा है कि आग लगने से आग की चपेट में करेंसी भी जरूर आर्इ होगी। वहीं बैंक में जमा होने वाली लोगों की आर्इडी काॅपी व दस्तावेज जलने का अनुमान लगाया जा रहा है। अभी तक क्या जला है आैर कितना नुकसान हुआ है इसका खुलासा नहीं हो सका है।

शाॅर्ट सर्किट बताया जा रहा है आग लगने का कारण

बैंक में जिस समय आग लगी उस समय बैंक बंद हो चुका था। बैंक में आग लगने का कारण शॉर्ट सर्किट बताया जा रहा है। दमकल की गाड़ियों ने करीब आंधे घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया।

ग्रेटर नोएडा में बैंक एटीएम में लगी थी आग

जहां नोटबंदी के बाद बैंक आैर एटीएम में नये नोटों की किल्लत आैर पुराने नोटों की भरमार है। उसी तरह आग की घटनाएं भी बढ़ती जा रही हैं। इसी तरह 26 नवंबर की रात को ग्रेटर नोएडा स्थित एटीएम मशीन आग लगी थी। वहां भी आग लगने के कारण शाॅर्ट सक्रिट बताया गया था।

कंप्यूटर में थी सारी जानकारी


बैंक मैनेजर ए के सिंह ने बताया कि आग से कितना नुकसान हुआ है इसका आंकलन किया जा रहा है। सारे आंकड़े कोर बैकिंग और ऑनलाइन होते हैं। बैंक में कितने पुराने आैर नए नोट थे। कितनी आर्इडी जमा है। कितने लोगों ने रुपये निकाले। ये सभी आंकड़े कंप्यूटर में थे। आग से कंप्यूटर भी खराब हो चुके हैं। लिहाजा डाटा निकालने में थोड़ी दिक्कत आ रही है। बाकी अन्य तरीकों से डाटा निकालने का प्रयास किया जा रहा है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned