बीमा एजेंट बनकर पॉलिसी मेच्योरिटी का झांसा देकर ठगी करने वाले गिरोह के पाँच सदस्य गिरफ्तार

ठगी के लिए ऑनलाइन सर्विस प्रोवाइड करने वाली वेबसाइट का करते थे प्रयोग

By: shivmani tyagi

Updated: 24 Nov 2020, 12:11 AM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
नोएडा. थाना फेस-3 की पुलिस ने बीमा एजेंट बनकर लोन कराने, पॉलिसी मेच्योरिटी के नाम पर झांसा देकर ठगी करने वाले गिरोह के पाँच आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए अभियुक्तों के कब्जे से 2 लाख 10 हजार 170 रुपये की नगदी, 02 कार, 14 मोबाइल फोन, एक लैपटॉप, 11 क्रेडिट कार्ड, 02 चेकबुक, 02 पासबुक, 04 सिम कार्ड, 02 पैनकार्ड, 02 आधार कार्ड, 01 मतदाता परिचय पत्र बरामद किया गया है।

पकड़े गए आरोपी मुकुल शर्मा पुत्र नरेन्द्र कुमार शर्मा, सचिन शर्मा पुत्र नरेन्द्र सिंह शर्मा, संजय वाजपेयी पुत्र स्वर्गीय ओम प्रकाश वाजपेयी, मोहित पुत्र धरमवीर और सोनू बीमा एजेंट बनकर बीमा की मेच्योरिटी और बीमा में आने वाली दिक्कतों को दूर करने का भी झांसा देकर ठगी करते हैं।एडिशनल डीसीपी रणविजय सिंह ने बताया कि सूचना के आधार पर थाना फेज-तीन की पुलिस ने छिजारसी के पास से इन पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है। एडिशनल डीसीपी ने बताया कि पकड़ा गया आरोपित मुकुल इस गिरोह का मास्टरमाइंड है। वह एक बीमा कंपनी में एजेंट भी रहा है। वह बीमा करने वाले लोगों का डिटेल लाता था। आरोपित सचिन पॉलिटेक्निक डिप्लोमा पास है। दोनों मिलकर होंडा सिटी कार में घूमते हैं और ऑनलाइन मिले डेटा के आधार पर लोगों को फोन कर इंश्योरेंस पॉलिसी में मुनाफा, लोन सहित अन्य प्रकार का झांसा देकर रकम अपने खाते में जमा करा लेते हैं। इस दौरान आरोपित बीमा एजेंट बनकर बीमा की मेच्योरिटी और बीमा में आने वाली दिक्कतों को दूर करने का भी झांसा देकर ठगी करते हैं।

एडीसीपी नोएडा ने बताया कि आरोपित मोहित सोनू के साथ मिलकर बैंक अकाउंट मुहैया कराता है जिसमें रकम जमा कराते हैं। उसके बदले ठगी की कुल रकम का 15 प्रतिशत रकम लेता है। संजय भी इस गिरोह से मिला हुआ है। एडीसीपी का कहना है कि मुखबिर की सूचना के आधार पर इनकी गिरफ्तारी हुई है। इनके दो से अधिक बैंक खाते की जानकारी पुलिस को मिली है। बैंक अकाउंट डिटेल की छानबीन और जांच के बाद ही पता लग सकेगा कि इस गिरोह ने अबतक कितने लोगों से ठगी की है।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned