नोएडा प्राधिकरण के अधिकारी नहीं कर रहे हस्ताक्षर, नई ग्रुप हाउसिंग के फ्लैट्स की रजिस्ट्री पर लगी रोक!

Highlights:

-एसडीएम के पत्र के बाद अधिकारी नहीं कर रहे हस्ताक्षर

-फ्लैट बायर लगातार प्राधिकरण के काट रहे चक्कर

By: Rahul Chauhan

Published: 12 Jan 2021, 01:22 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

नोएडा। फ्लैट की रजिस्ट्री कराने वाले बायर्स को इन दिनों भारी समस्या का सामना करना पड़ा रहा है। कारण, नोएडा प्राधिकरण ने नई ग्रुप हाउसिंग सोसायटियों के फ्लैट की रजिस्ट्री की प्रक्रिया पर फिलहाल रोक लगा दी गई है। इस कारण प्राधिकरण के अधिकारी फ्लैट की रजिस्ट्री से संबंधित लीज पर हस्ताक्षर नहीं कर रहे हैं। जिसके चलते बायर्स की रजिस्ट्री नहीं हो पा रही है।

यह भी पढ़ें: 251 रु में स्मार्टफोन का झांसा देने वाले मास्टर माइंड ने अब मेवे-मसालों के नाम पर की अरबों की ठगी

जानकारी के अनुसार एसडीएम द्वारा प्राधिकरण को एक पत्र जारी किया गया है। जिसमें कहा गया है कि फ्लैट के दस्तावेजों पर बिल्डर के साथ-साथ प्राधिकरण के अधिकारी के भी हस्ताक्षर होते हैं। इस स्थिति में यदी बिल्डर द्वारा फॉल्ट स्टेटमेंट डॉक्यूमेंट दिए जाते हैं तो इसके लिए प्राधिकरण का अधिकारी भी जिम्मेदार होगा। जिसके चलते विभाग का कोई भी अधिकारी लीज पर साइन नहीं कर रहा। वहीं इस कारण लोगों के खासी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। उधर, इस बाबत कोई भी अधिकारी जबाव देने को तैयार नहीं है।

बता दें कि फ्लैट की रजिस्ट्री के लिए तैयार होने वाली लीज डीड पर बिल्डर के अलावा नोएडा प्राधिकरण के अधिकारी के भी हस्ताक्षर कराए जाते हैं। इसके साथ ही निबंधन विभाग में जब रजिस्ट्री होती है तो उस समय फ्लैट बायर के अलावा बिल्डर और प्राधिकरण के प्रतिनिधि का भी होना जरूरी होता है। रजिस्ट्री में दोनों के हस्ताक्षर भी कराए जाते हैं।

यह भी देखें: बर्फीली और पछुआ हवाओं से सड़कें हुईं सूनी

पहले से ही बंद है 100 प्रोजेक्टों की रजिस्ट्री

उल्लेखनीय है कि कई बिल्डरों पर नोएडा प्राधिकरण का करोड़ों रुपये बकाया है। जिसके चलते प्राधिकरण ने पहले से ही करीब 100 प्रोजेक्टों की रजिस्ट्री बंद की हुई है। अधिकारियों के मुताबिक प्राधिकरण का बकाया नहीं देने पर 100 बिल्डर प्रोजेक्टों को फिलहाल ब्लैकलिस्ट किया हुआ है। जिसके चलते इनके फ्लैट की रजिस्ट्री की प्रक्रिया फिलहाल बंद चल रही है।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned