बाइक बोट की तरह ही इस कंपनी ने 400 लोगों से की करोड़ों की ठगी, किसी ने गहने तो किसी ने घर बेचकर दिये थे रुपये

बाइक बोट की तरह ही इस कंपनी ने 400 लोगों से की करोड़ों की ठगी, किसी ने गहने तो किसी ने घर बेचकर दिये थे रुपये

Nitin Sharma | Publish: Aug, 15 2019 01:49:34 PM (IST) Noida, Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh, India

मुख्य बातें

  • 315 दिन में जमा रकम का दोगुणा रुपया देने का करते थे वादा
  • ओला में गाड़ी लगाने के लिए कराते थे निवेश और हर दिन देते थे रुपये
  • करीब 400 लोगों से करोड़ों की ठगी कर फरार हुए आरोपी

नोएडा। लोगों को दो से तीन गुणा मुनाफे का झांसा देकर पांच हजार करोड़ रुपये की ठगी करने वाली (Bike Bot) बाइक बोट कंपनी की तरह ही हाईटेक शहर में एक और (FRAUD COMPANY) ठग कंपनी गो इंडिया ग्रो (GO INDIA GROW) सामने आई है। जो 400 लोगों से करीब 30 करोड़ रुपये की ठगी कर फुर्र हो गई। लोगों ने गहने और घर बेचकर इसमें निवेश किया। कुछ दिनों तक उन्हें हर दिन पांच सौ से हजार रुपये मिले। इसके बाद जनवरी माह में ठग कंपनी का ऑफिस बंद कर फरार हो गये। ठगी के शिकार पीडि़तों ने मामले की शिकायत कोतवाली फेज तीन पुलिस को दी है। जिसके बाद से पुलिस ठग कंपनी के मालिक का पता लगाने में जुटी है।

Car Driver को गनप्वाइंट पर लेकर स्कूटी सवार युवकों ने महिला डॉक्टर से की दरिंदगी, रोते हुए थाने पहुंची पीड़िता

नौ महीने पहले सेक्टर-63 में ठग कंपनी ने खोला था ऑफिस

पुलिस के अनुसार, मूलरूप से अलीगढ़ निवासी रेखा गाजियाबाद के लाल कुआं स्थित कॉलोनी में परिवार के साथ रहती है। रेखा ने बताया कि उन्होंने गो इंडिया ग्रो (जीआईजी) कैब्स एंड सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड की एक (Company AD) कंपनी का विज्ञापन देखा। यह देखकर उन्होंने मुनाफे के लालच में कंपनी से संपर्क किया। तो कंपनी की तरफ से बताया गया कि उनका ऑफिस सेक्टर-63 के डी ब्लॉक में है। इस पर रेखा दस नवंबर 2018 को कंपनी के ऑफिस पहुंची। वहां उन्हें कंपनी के कुछ लोग मिले। उन्होंने बताया कि कंपनी में उन्हें 76 हजार रुपये जमा करने होंगे। और कंपनी उन्हें 315 दिन तक रोजाना 510 रुपये देगी। 76 हजार के डबल 160650 रुपये होंगे। पीडि़ता ने बताया कि उन्होंने लालच में आकर अपने गहने बेचकर कंपनी में ढ़ाई लाख रुपये निवेश कर दिये। कुछ दिनों तक रुपये इसके बाद पैसे आने बंद हो गये। वहीं रमेश ने बताया कि उन्होंने अपना एक मकान बेचकर इस कंपनी में निवेश किया था। कुछ दिनों तक रुपये आए और फिर बंद हो गये। वह कंपनी ऑफिस पहुंचे। तो पता चला कि कंपनी फरार हो गई है।

Good News: इस बड़े शहर में जल्द घटेंगे फ्लैटों के दाम, खरीदारों के लिए बेहतर मौका

इस नाम पर रुपये लेकर निवेश का हवाला देती थी कंपनी

पीडि़ता ने बताया कि कंपनी ने उन्हें बताया था कि वह लोग निवेश किये गये रुपयों से गाडिय़ां लेकर ओला कैब में लगाती है। इससे मिले मुनाफे को वह लोगों में बांटते है। जिसे सभी को फायदा होता है। इसी तरह से कंपनी ओला में अपनी हजारों गाडिय़ां लगे होने का हवाला देकर लोगों से रुपये निवेश का लेती थी। वहीं इस मामले में कोतवाली फेज तीन प्रभारी देवेंद्र सिंह यादव ने बताया है कि इस संबंध में तहरीर मिली है। कंपनी का एक ऑफिस दिल्ली के नंद नगरी इलाके में भी था। वह भी बंद मिला है। कंपनी दिल्ली एनसीआर और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लोगों को ठगकर फरार हुई है। आरोपी कंपनी मालिक की तलाश की जा रही है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned