नामी कंपनियों की फ्रेंचाइजी के नाम करोड़ों की ठगी, 500 के नोटों से भरे बैग के साथ एक और गिरफ्तार

Highlights

- फर्जी कंपनी बनाकर विभिन्न कंपनियों की फ्रेंचाइजी देने का मामला

- पुलिस ने मुख्य आरोपी के रिश्तेदार को किया गिरफ्तार

- बरामद किए गए ट्रॉली बैग से 29 लाख रुपये बरामद

By: lokesh verma

Published: 16 Sep 2020, 12:19 PM IST

नाेएडा. फर्जी कंपनी बनाकर विभिन्न कंपनियों की फ्रेंचाइजी देने के मामले में थाना फेज-3 पुलिस ने एक और अरोपी को गाजियाबाद से गिरफ्तार किया है। पकड़ा गया आरोपी मुख्य आरोपी का रिश्तेदार है। पुलिस ने उसके कब्जे से एक ट्राॅली बैग बरामद किया, जिसमें 500-500 के नोटों की 58 गड्डियां यानि 29 लाख रुपये भरे हुए थे।

यह भी पढ़ें- अखिलेश सरकार में पुलिस ने बरामद की थी आजम की भैंस, अब योगी की पुलिस ढूंढ रही कबूतर

डीसीपी सेंट्रल हरीशचंद्र ने बताया कि गाजियाबाद वैशाली मेट्रो स्टेशन के पास से इस मामले में एक और आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। पकड़ा गया आरोपी गाजियाबाद निवासी सुभाष कुमार है। पुलिस ने उसके कब्जे से एक ट्राली बैग बरामद किया है, जिसमें 500-500 के नोटों की 58 गड्डियां यानि 29 लाख रुपये भरे हुए थे। गिरफ्तार किया सुभाष कुमार आरोपी मुख्य आरोपी राजेश का मौसेरा भाई है और वह राजेश की गाड़ी भी चलाता था। पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह इस पैसे को राजेश को देने के लिए जा रहा था।

डीसीपी सेंट्रल सेक्टर-63 में फर्जी कंपनी बनाकर देश के सैकड़ों लोगों से नामी कंपनियों की फ्रेंचाइजी देने के नाम पर करोड़ों रुपए की ठगी की गई थी। पीड़ितों की शिकायत के बाद थाना फेस-3 पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए अभी तक मुख्य आरोपी की मां, बहन, भाई, पत्नी समेत 9 आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। इनके पास से लगभग आठ करोड़ रुपये का सामान बरामद किया गया था। उनमें दो करोड़ का सोना, चांदी, 13.50 लाख की नकदी, 05 कार, 63 लैपटॉप और 27 मोबाइल फोन आदि शामिल था। पुलिस टीम मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के लिए लगातार दबिश दे रही है। पुलिस का कहना है कि राजेश को भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें- Human Trafficking : नाैकरी के नाम पर बुलाकर दिल्ली और बंगाल की लड़कियों से कराया जा रहा देह व्यापार

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned