मेंटेनेंस शुल्क बढ़ोत्तरी के विराेध में सड़कों पर उतरे गौर सिटी के परिवार, जाेरदार प्रदर्शन

नाेएडा गौर सिटी के परिवारों ने अब बिल्डर के खिलाफ माेर्चा खाेल दिया है। बिल्डर ने यहां मेंटीनेंस शुल्क में बढ़ोत्तरी का नाेटिस दिया तो सोसाइटी में रहने वाले परिवार सड़कों पर उतर आए।

By: shivmani tyagi

Updated: 21 Sep 2020, 09:26 PM IST

ग्रेटर नोएडा। वेस्ट में स्थित गौर सिटी के एवेन्यू-1 से लेकर एवेन्यू-6 में रहने वाले परिवारों ने मेंटेनेंस शुल्क में की गई 60% की बढ़ोतरी के विराेध में माेर्चा खाेल दिया है। सड़क पर उतरे इन परिवारों ने जाेरदार प्रदर्शन किया। साफ कहा कि, यह बढ़ोतरी नाजायज है क्योंकि 2018 के मार्च महीने में बिल्डर के साथ 51 फीसद निवासियों की सहमति के बाद रखरखाव शुल्क न बढ़ाने का लिखित आश्वासन दिया गया लेकिन बिल्डर अपनी मनमानी पर आया है और करोना काल में जब लोग आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं ऐसे में मेंटेनेंस शुल्क बढाना उचित नहीं है।

यह भी पढ़ें: कोरोना मरीजों के ठीक हाेने का ग्राफ बढ़ा, 24 घंटे में 286 स्वस्थ हुए 125 नए मामले

प्रदर्शन कर रहे परिवारों ने कहा कि, सोसाइटी में उन्हें पूरी सुविधाएं नहीं मिल रही हैं। जगह-जगह बेसमेंट में लीकेज है। आए दिन बिजली का प्लास्टर गिरता रहता है और कुछ महीने से सिक्योरिटी कम कर दी है। करोना जैसे महामारी के कार्यकाल में इस तरह की मेंटेनेंस शुल्क बढ़ाेत्तरी उन्हें मंजूर नहीं है। प्रदर्शनकारियों ने यह भी कहा कि, उन्हाेंने जिलाधिकारी और पुलिस अफसरों के साथ-साथ प्राधिकरण से भी शिकायत की लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई जिस कारण उन्हे अब प्रदर्शन करने के लिए मजबूर हाेना पड़ा। यहीं रहने वाली अनिता प्रजापति ने बताया कि मेंटिनेंस के नाम पर अब तक बिल्डर प्रबंधन 1.25 रुपये प्रति वर्ग फीट लेता था लेकिन अब बिल्डर ने एक अक्टूबर से इसे बढ़ाकर दो रुपये करने का नोटिस सभी टॉवरों के नोटिस बोर्ड पर चस्पा कर दिया है।

यह भी पढ़ें: गाजियाबाद में पांच साल के बच्चे के साथ कुकर्म, घटना के बाद से चाचा फरार

इसी साेसाइटी में रहने वाले रंजीत सिंह ने बताया कि ढाई साल पहले मार्च 2018 में भी बिल्डर ने रखरखाव शुल्क बढ़ाने की कोशिश की थी। उस दौरान प्रदर्शन करने के बाद बिल्डर ने 51 फीसद निवासियों की सहमति के बाद रखरखाव शुल्क न बढ़ाने का लिखित आश्वासन दिया था, लेकिन बिल्डर अब उस लिखित पत्र को मानने के लिए तैयार नहीं है।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned