कोरोना वायरस का कहर जारी, तीन लोगों की मौत, बढ़ाई गई नाइट कर्फ्यू की तारीख

जिला प्रशासन ने 1480 नए बेड बढ़ाने का फैसला। वहीं लोग रेमडेसिविर इंजेक्शन और ऑक्सीज़न के लिए भटक रहे हैं। 24 घंटे में कोरोना संक्रमित 425 नए मरीजों की पुष्टि हुई है। नाइट कर्फ्यू अब 30 अप्रैल तक लागू रहेगा।

By: Rahul Chauhan

Published: 20 Apr 2021, 01:49 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

नोएडा। गौतमबुद्ध नगर में कोरोना संक्रमण का कहर भयावह हो चला है। बीते 24 घंटे में कोरोना संक्रमित 425 नए मरीजों की पुष्टि हुई है। जबकि इलाज के दौरान तीन मरीजों दम तोड़ दिया। कोविड अस्पताल और होम आइसोलेशन से 363 मरीज स्वस्थ हुए। सक्रिय मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। जिले में सक्रिय मरीजों की संख्या में भी बेतहाशा वृद्धि होने अस्पतालो में बेड कम पड़ने लगे हैं। नए संक्रमितों के मामले रोज कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए नोएडा में नाइट कर्फ्यू अब 30 अप्रैल तक लागू रहेगा। रोजाना रात आठ बजे से सुबह सात बजे तक नाइट कर्फ्यू लागू रखने का फैसला किया गया है।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन के डर से पलायन कर रहे प्रवासी मजदूर, मजबूरी भरी दास्तां सुनकर पसीज जाएगा आपका भी दिल

प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के जनपद में कोरोना संक्रमित 425 नए मरीजों की पुष्टि हुई है। वहीं इलाज के दौरान तीन मरीजों की मौत हो गई। कोविड अस्पताल और होम आइसोलेशन से 363 मरीज स्वस्थ हुए। सक्रिय मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। अब कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 30955 हो गई है। कुल 27463 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। कोरोना संक्रमण से अब तक 106 लोगों की मौत हो चुकी है। कोविड अस्पतालों और होम आइसोलेशन में 3386 लोगों का इलाज चल रहा है। सक्रिय मरीज के लिहाज से प्रदेश में जिल टॉप टेन में शामिल है।

यह भी पढ़ें: नया आदेश! होटल, रेस्टोरेंट और सड़क किनारे रेडी पटरी पर नहीं खा सकेंगे खाना, सिर्फ होगी होम डिलिवरी

जिले में कोरोना के सक्रिय मरीजों की संख्या 3386 है। जिसके बाद मरीजों को भर्ती करने में दिक्कतें आ रही है। आईसीयू बेड और वंटिलेटर की कमी है। सीएमओ डॉ दीपक ओहरी अन्य अस्पतालों में भी बेड की संख्या बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए 1480 नए बेड बढ़ाने का फैसला लिया है। कोरोना संक्रमण के इलाज के लिए दिए जानेवाला रेमडेसिविर इंजेक्शन की कमी बरकरार है। कोविड अस्पताल मरीजों को इंजेक्शन लाने के लिए पर्चा थमा रहे हैं, लेकिन किसी भी दुकान पर यह इंजेक्शन नहीं मिल रहा है। इससे मरीजों के साथ ही परिजनों की परेशानी भी बढ़ गई है।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned