कड़ी सुरक्षा के बीच नोएडा पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप, कल से वैक्सीनेशन शुरू

Highlights

- गौतमबुद्धनगर जिले को मिली कोविशील्ड की 28840 डोज

- पहले चरण में 8 अस्पतालों में होगा वैक्सीनेशन का कार्य

- तीन दिनों में 75 बूथों पर 5,713 फ्रंट वर्कर को लगाई जाएगी वैक्सीन

By: lokesh verma

Published: 15 Jan 2021, 11:33 AM IST

नोएडा. कड़ी सुरक्षा के बीच गुरुवार शाम को कोरोना वैक्सीन की पहली खेप नोएडा पहुंच गई। स्वास्थ्य विभाग की टीम गुरुवार सुबह करीब 10 बजे मेरठ से वैक्सीन लेने गई थी, जो शाम को लौटी। मीडिया की मौजूदगी में नोएडा के सीएमओ दीपक ओहरी ने वैक्सीन को कोल्ड स्टोरेज में रखवाया। जिले में वैक्सीन भंडारण की पूरी व्यवस्था की गई है। मेरठ जो वैक्सीन पहुंची है, वह कोविशील्ड बताई जा रही है। अब 16 जनवरी को वैक्सीनेशन का काम शुरू किया जाएगा।

यह भी पढ़ें- मेडिकल कॉलेज की चाैथी मंजिल से कूदकर कोरोना मरीज ने कर ली आत्महत्या

कोरोना वैक्सीन की पहली खेप मेरठ से सीधे नोएडा मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय पहुंची। जहां मुख्य चिकित्सा अधिकारी दीपक ओहरी ने मीडिया में मौजूदगी में कोरोना वैक्सीन लाने वाली वैन की सील को तोड़ा और वैक्सीन को कोल्ड स्टोरेज में रखवाया। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि जिले को पहली खेप में 28,840 डोज मिली हैं। पहले चरण में 8 अस्पतालों में जिम्स, शारदा, चाइल्ड पीजीआई, जिला अस्पताल, जेपी अस्पताल, फोर्टिस अस्पताल, यथार्थ अस्पताल, कैलाश अस्पताल का चयन किया गया है। अभी तक की रणनीति के मुताबिक, प्रत्येक बूथ पर 100-100 स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन लगाई जाएगी।

सीएमओदीपक ओहरी ने बताया कि वैक्सीनेशन के लिए एक पोर्टल बनाया गया है, जो स्वास्थ्यकर्मी वैक्सीन लगाने से इनकार करेंगे उनकी काउंसलिंग करवाई जाएगी। अगर इसके बाद भी वह नहीं मानते हैं तो उसकी सूचना पोर्टल पर दी जाएगी। पोर्टल पर वैक्सीनेशन संबंधित सभी जानकारी उपलब्ध होगी। जिले में पहले चरण में तीन दिनों में 75 बूथों पर 5,713 फ्रंट वर्कर को वैक्सीन लगाई जाएगी। आम व्यक्ति को वैक्सीन तीसरे चरण में लगाया जाएगा।

यह भी पढ़ें- कोरोना वैक्सीन को लेकर अगर फैलाई कोई अफवाह, तो बचना होगा मुश्किल, सरकार ने की ये व्यवस्था

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned