साउथ अफ्रीकी सरकार के लिए ये तीन भाई बने परेशानी का सबब, राष्ट्रपति भी फंसे, जानिए क्यों?

भारत के रहने वाले गुप्ता ब्रदर्स साउथ अफ्रीका के सबसे अमीर बिजनेसमैन माने जाते हैं।

By: Kaushlendra Pathak

Updated: 07 Feb 2018, 12:09 PM IST

नोएडा। सहारनपुर के रहनेवाले ये तीन भाई अफ्रीकी सरकार के लिए परेशानी का सबब बन चुके हैं। इनके कारनामो के कारण पूरा सरकारी तंत्र बेहाल है। इतना ही नहीं इनके कारण साउथ अफ्रीका के राष्ट्रपित जैकब जुमा भी मुसीबत में फंस गए हैं। दरअसल, भारत के रहने वाले तीन भाई अतुल गुप्ता, राजेश गुप्ता और अजय गुप्ता ने साउथ अफ्रीका में अपना बड़ा साम्राज्य बना रखा है। यह साउथ अफ्रीका के सबसे अमीर बिजनेसमैन माने जाते हैं। ये तीनों भाई मौजूदा अफ्रीकन राष्ट्रपति जैकब जुमा के बेहद ही करीबी माने जाते हैं। राष्ट्रपति की मदद से तीनों भाईयों ने कंप्यूटर, माइनिंग, मीडिया, टेक्नोलॉजी और इंजीनियरिंग का साउथ अफ्रीका में बड़ा एम्पायर खड़ा कर दिया। लेकिन, साल 2016 में कई स्कैंडल के आरोप लगने के बाद गुप्ता ब्रदर्स सुर्खियों में आ गए। इनके साथ-साथ राष्ट्रपति जैकब जुमा पर भी घोटालों के आरोप लगे, जिसके बाद से उनपर पद छोड़ने का दबाव लगतार बढ़ने लगा, जो आज तक जारी है। रिपोर्ट के मुताबिक, जैकब जुमा पर आरोप है कि उन्होंने गुप्ता ब्रदर्स की काफी मदद की है। गुप्ता फैमिली पर साउथ अफ्रीका में बिजनेस इंट्रेस्ट के लिए सरकार के अंदर मन मुताबिक भर्तिया करने का आरोप लगता रहा है। इतना ही नहीं जुमा गवर्नमेंट के डिप्टी फाइनेंस मिनिस्टर मसेबिसी जोनास ने आरोप लगाया था कि गुप्ता ब्रदर्स ने उन्हें फाइनेंस मिनिस्टर की पोस्ट ऑफर की थी। हालांकि, राष्ट्रपति जुमा ने कहा था कि उनकी कैबिनेट के सारे फैसले उनके ही आदेश पर होते हैं और गुप्ता फैमिली का इसमें कोई रोल नहीं है। फिलहाल, राष्ट्रपति जैकब जुमा के साथ-साथ तीन भाईयों के खिलाफ जांच चल रही है।


बेटे की शादी में एयरफोर्स बेस पर उतारा था प्लेन

अप्रैल 2013 में गुप्ता परिवार फैमिली फंक्शन में शामिल होने साउथ अफ्रीका पहुंचा था। गुप्ता फैमिली के 217 गेस्ट प्लेन में सवार थे। अजय गुप्ता ने अपना प्लेन प्रिटोरिया स्थित साउथ अफ्रीकन एयरफोर्स बेस वॉटरक्लूफ में उतारा था। एयरफोर्स बेस पर निजी प्लेन उतरने से बवाल मच गया था। अफ्रीकी प्रेसिडेंट पर महाभियोग की तैयारियों के बीच वहां की सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में जैकब जुमा को आर्थिक अपराध का दोषी करार दिया था। गुप्ता फैमिली की इस हरकत की आलोचना अफ्रीकन नेशनल कांग्रेस समेत सभी पॉलिटिकल पार्टियों ने किया था। इनके अलावा साउथ अफ्रीकन नेशनल डिफेन्स यूनियन ने भी इसकी निंदा की थी। वहीं, बवाल को देखते हुए इंडिया के तत्कालीन हाई कमिश्नर वीरेंद्र गुप्ता ने पब्लिकली बयान दिया था कि इंडियन हाई कमिशन को वॉटरक्लूफ एयरफोर्स बेस यूज करने की परमिशन दी गई थी। अजय गुप्ता ने साउथ अफ्रीकी प्रेजिडेंट जुमा को भी शादी में आमंत्रित किया था। कॉन्ट्रोवर्सी को देखते हुए जुमा ने शादी अटैंड करने का प्लान कैंसिल कर दिया था। पूरे गुप्ता परिवार ने अपनी हरकत के लिए साउथ अफ्रीकी एयरफोर्स से सार्वजनिक माफी मांगी थी।


प्रेसीडेंट को लेकर आए विवादों में

साउथ अफ्रीका में रहते हुए अजय उस वक्त विवादों में आए जब उन पर साउथ अफ्रीका के फाइनेंस मिनिस्टर नेने को हटाने का आरोप लगा। आरोप था कि उनके कहने पर ही साउथ अफ्रीका के प्रेसिडेंट जैकब जुमा ने फाइनेंस मिनिस्टर को उनके पद से हटाया था। यही नहीं साउथ अफ्रीका के वाइस फाइनेंस मिनिस्टर मसोबीसी जोनास ने यह दावा किया था कि अजय गुप्ता ने नेने की जगह उन्हें फाइनेंस मिनिस्टर बनवाने का आश्वासन दिया। इससे पहले वर्ष 2010 में एक सांसद को मंत्री बनवाने का आश्वासन दिए जाने का आरोप भी उन पर लगा था।


यूपी के सहारनपुर के रहने वाले हैं गुप्ता ब्रदर्स

गुप्ता फैमिली मूलरूप से उत्तर प्रदेश के सहारनपुर की रहने वाली है। 1993 में अतुल गुप्ता 25 साल की उम्र में साउथ अफ्रीका के जोहांसबर्ग आए। उस समय नेल्सन मंडेला प्रेसिडेंट बन चुके थे। फॉरेन इनवेस्टमेंट के लिए साउथ अफ्रीका के दरवाजे खोले तो भारत में छोटे बिजनेसमैन गुप्ता ब्रदर्स ने यहां कंप्यूटर, माइनिंग, मीडिया, टेक्नोलॉजी और इंजीनियरिंग का एम्पायर खड़ा कर दिया। साथ ही उन्होंने अफ्रीकन नेशनल कांग्रेस (एएनसी) पार्टी में भी लिंक बढ़ानी शुरू की, खासकर जैकब जुमा से। जुमा का बेटा डूडूजेन सहारा कंप्यूटर्स का डायरेक्टर है। सहारा कंप्यूटर गुप्ता के होम टाउन सहारनपुर के नाम पर है। जुमा की तीसरी वाइफ बोंगी नेग्मा और उसकी बेटी गुप्ता के कर्मचारी हैं। गुप्ता के पास जोहानिसबर्ग में उपनगर सेक्सोनवोल्ड में हाई सिक्युरिटी कम्पाउंड में रेजिडेंशियल और बिजनेस हेडक्वार्टर्स है। उनके पास एक हेलिकॉप्टर पैड है।


पिता की थी छोटी सी राशन की दुकान

यूपी के सहारनपुर जिले के रहने वाले अजय गुप्ता के पिता शिवकुमार गुप्ता की सहारनपुर में रायवाला बाजार में एक छोटी सी राशन की दुकान थी। अजय गुप्ता के दो भाई हैं जिनका नाम अतुल गुप्ता और राजेश गुप्ता हैं। पिता शिवकुमार गुप्ता परिवार के साथ सहारनपुर शहर के रानी बाजार स्थित एक छोटे से मोहल्ले में रहते थे। दुकान के पीछे ही उनका पुश्तैनी मकान था। अजय ने सीए का कोर्स किया तो भाईयों ने आईटी में इंजीनियरिंग की। साल 1985 में सहारनपुर से दिल्ली चले गए और वहां कुछ दिनों एक बड़े होटल में नौकरी की। इसके बाद नौकरी छोड़ दी और वर्ष 1993 में साउथ अफ्रीका चले गए। वहां अपने दोनों भाइयों के साथ मिलकर कम्प्यूटर से जुड़ा बिजनेस शुरू किया। साउथ अफ्रीका के जोहान्सबर्ग में कम्प्यूटर और उसके पार्ट्स बनाने की कंपनी शुरू की।

Kaushlendra Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned