NEW YEAR GIFT: इस साल नोएडा को मिलेगा मेट्रो का तोहफा

NEW YEAR GIFT: इस साल नोएडा को मिलेगा मेट्रो का तोहफा
noida metro aqua line

sandeep tomar | Publish: Dec, 07 2016 04:40:00 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

ट्रैफिक से परेशान दिल्ली-नोएडा के लोगों के लिए खुशखबरी

नोएडा: दिल्ली नोएडा के लोगों के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है। एनएमआरसी ने साफ कर दिया है कि नोएडा-ग्रेनो मेट्रो पब्लिक के लिए 2017 दिसंबर तक उपलब्ध हो जाएगी। इसका मतलब है उसके करीब तीन महीने पहले ही मेट्रो का ट्रायल रन कर लिया जाएगा। आपको बता दें कि डीपीआर के अनुसार नोएडा-ग्रेनो मेट्रो का निर्माण और उसका संचालन अप्रैल 2018 में होना था। लेकिन एनएमआरसी की ओर से तेजी से काम किया गया और इसका निर्माण जल्द ही खत्म कर लिया जाएगा। अधिकारियों की मानें तो 60 फीसदी से अधिक काम पूरा कर लिया गया है। इस लाइन को एक्वा लाइन के नाम से जाना जाएगा। इस लाइन की मेट्रो में 16 सीटें महिलाओं, दिव्यांगों और बुजुर्गों के लिए प्रत्येक कोच में अलग रंग की आरक्षित होंगी। आपको बता दें कि आज एनएमआरसी की बोर्ड मीटिंग का आयोजन किया गया जिसमें और कई निर्णय लिए गए।

ये भी लिए गए निर्णय

- नोएडा मेट्रो रेल कॉरपोरेशन की आधिकारिक वेबसाइट एनएमआसी नोएडा डॉट कॉम की शुरूआत की गई है।

- वन सिटी वन कार्ड परियोजना के लिए निविदाएं आमंत्रित कर ली गई हैं। इसके अंतर्गत एक ही कार्ड से यात्री मेट्रो, बस और अन्य स्थानों पर कैशलेस की सुविधा दी जाएगी।

- मेट्रो कॉरीडोर की सुरक्षा के लिए अस्थाई रूप से 48वीं बटालियन पीएसी को जिम्मेदारी सौंपी गई है। साथ ही कॉरपोरेशन द्वारा शासन से स्थाई बल की मांग की गई है।

- एनएमआरसी द्वारा परियोजना के लिए 307 करोड़ रुपए की वैट की मांग की गई है।

- एनएमआरसी द्वारा इलेक्ट्रीसिटी ड्यूटी पर शासन से छूट की मांग की गई है।

- सिटी बस परियोजना के लिए फस्र्ट फेज में 50 एसी बसें चलाने का फैसला लिया गया है। इन बसों में महिलाओं की सुरक्षा के लिए विशेष अलार्म बटन दिया गया है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned