मायावती को जिताने में लगे हैं विरोधी, ये रहे कारण

मायावती को जिताने में लगे हैं विरोधी, ये रहे कारण
mayawati

sandeep tomar | Publish: Jan, 05 2017 07:48:00 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

इन सीटों पर बसपा की जीत तय मानी जा रही है, जानिए क्यों

नोएडा। उत्तर प्रदेश में चुनावी​ बिगुल बच चुका है। राजनीतिक दलों के अपने प्रत्याशियों की घोषणा न करने आैर सपा में चल रही रार का सबसे ज्यादा फायद बसपा को मिलता दिख रहा है। मुख्य कारण अचार सहिंता का लगना भी है। अभी तक कर्इ पार्टियों ने विधानसभा सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की है। उधर, सपा में चल रही रार के चलते प्रत्याशी अपने विधानसभा क्षेत्रों में प्रचार प्रसार तक नहीं कर सके हैं आैर अब उनके पास समय नहीं बचा है। इसका भरपूर फायदा बसपा विधायक उठा रहे हैं। उन्होंने पिछले दो माह में अपने विधानसभा क्षेत्र में जमकर प्रचार प्रसार किया है।

तीनों सीट जीत सकती है बसपा

बहुजन समाजवादी पार्टी का जिले की तीनों विधानसभाआें में जीतना लगभग तय माना जा रहा है। इसका कारण गौतमबुद्घनगर का मायावती का गृ​ह जनपद है। इस कारण मायावती की दादरी आैर जेवर विधानसभाआें में अच्छी पकड़ है। यहां गुर्जर आैर जाटवों की अच्छी संख्या है। इनके सभी वोट बसपा की आेर ही जाते हैं।

जीत के समीकरण

बादलपुर मायावती का गांव है। मायावती ने दादरी और जेवर से जातिया समीकरण को ध्यान में रखते हुए गुर्जर प्रत्याशियों को टिकट दिया है। दादरी और जेवर में गुर्जर वोट अधिक हैं। इस वजह से वोटर बसपा को ही पसंद करते हैं और इस बार भी इसकी प्रबल संभावना है। मौजूदा समय में भी इन दोनों विधानसभाआें में बसपा के ही विधायक हैं। इसमें दादरी के विधायक सतवीर गुर्जर आैर जेवर के विधायक वेदराम भाटी हैं।

मिलेगा ये फायदा

अभी तक भाजपा आैर कांग्रेस ने अपने प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की है। इसके साथ ही सपा में चल रही रार के चलते कार्यकर्ता बट गये हैं आैर पार्टी प्रत्याशियों ने प्रचार प्रसार बंद कर दिया है। एेसे में बसपा प्रत्याशियों ने इसका भरपूर फायदा उठाते हुए, जमकर प्रचार प्रसार किया। घर घर जाकर लोगों के बीच बैठकर वोट देने की गुहार लगाई आैर वादे किये है। एेसे में लोगों पर बसपा के प्रत्याशियों की छाप जरूर पड़ेगी। उसके साथ ही दादरी आैर जेवर में पहले से पार्टी विधायक सतवरी गुर्जर आैर वेदराम भाटी हैं। एेसे में उन्हें लोग पहचाते हैं। वह भी अपने काम के आधार पर लोगों को वोट देने के लिए लुभा रहे हैं।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned