विदेशी मीडिया में भी छाया तलवार दंपती को निर्दोष साबित करने वाला फैसला

ऑस्ट्रेलिया, यूके ,कनाडा और दुबई की मीडिया ने आरुषि के परिजनों से किया संपर्क

By: Iftekhar

Published: 14 Oct 2017, 06:57 PM IST

नोएडा. आरुषित-हेमराज मर्डर केस में तलवार दंपती को निर्दोष साबित कर बरी करने का इलाहाबाद हार्इकोर्ट का फैसला अपने देश की मीडिया के साथ ही विदेशी मीडिया में भी छाया रहा। ऑस्ट्रेलिया से लेकर कनाडा जैसे कर्इ देशों के न्यूज चैनलों से लेकर अखबारों ने इसे दिखाने के साथ ही नूपुर तलवार के पिता और चचेरे भार्इ से इस संबंध में बात भी की। दरअसल, नूपुर तलवार के चेचेरे भार्इ कनाडा में रहते हैं। हालांकि, वह लगातार इस मामले में घर के लोगों से पल-पल की खबर जानते रहते हैं। फैसला आने के बाद भी उन्होंने अपने घर फोन कर अदालत के फैसल के विषय में परिवार के लोगों से जानकारी ली। इसके बाद उनसे कनाडा के कर्इ अखबारों और न्यूज चैनलों ने उनसे संपर्क किया।

पिता के पास इन देशों की मीडिया के आए फोन
साढ़े नौ साल बीतने के बाद भी आरुषि-हेमराज मर्डर केस में अब तक दोषियों का पता नहीं चल सका है। पुलिस और सीबीआर्इ दोनों ने आरुषि और हेमराज की हत्या का दोषी राजेश और नुपूर तलवार को बताया। इस पर लंबी सुनवार्इ के बाद इलाहाबाद हार्इकोर्ट ने गुरुवार को फैसला सुनाते हुए राजेश और नुपूर तलवार को निर्दोष साबित कर तुरंत ही जेल से रिहा करने के आदेश दिेए थे। इसके बाद से उनके पिता और परिवार के लोगों से अपने देश की मीडिया से लेकर विदेशी मीडिया ने भी संपर्क किया। नुपूर तलवार के पिता बीजी चिटनिस पर कोर्ट के फैसले के बाद से ही ऑस्ट्रेलिया, यूके से लेकर दुबंर्इ और कनाडा जैसे देशों की मीडिया का कॉल आया। सभी ने इस फैसल पर उनकी प्रतिक्रिया ली।

बहन और जीजा को दुख जताने का भी नहीं मिला मौका
विदेशी मीडिया ने नुपूर के पिता और उनके चचेरे भाई परडाकर के हवाले से लिखा है कि मेरी कजन व उनके पति को अब तक दुख जताने का भी मौका नहीं मिल सका था। 15 मई 2008 की रात आरुषि की हत्या के एक दिन बाद ही पुलिस ने पैरेंट्स पर ही शक जताना शुरू कर दिया था। इसके बाद उन्हें गिरफ्तार करना फिर छूटना और नवंबर 2013 में उम्रकैद की सजा होने के बाद बेटी की मौत पर ही दुख जताने का मौका नहीं मिल पाया था। अब जब हकीकत लोगों के सामने आ चुकी है, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दोनों को बरी कर दिया है।

सोमवार को डासना जेल से रिहा होगे, राजेश और नुपूर तलवार
आरुषि के परिजनों ने बताया कि इलाहाबाद हाईकोर्ट से फैसले की सर्टिफाइड कॉपी शुक्रवार शाम को मिल गर्इ थी। अब उसे सोमवार सुबह कोर्ट खुलते ही दाखिल कर दिया जाएगा। जिसके बाद सभी औपचारिकता के बाद दोनों को डासना जेल से रिहा किया जाएगा। वहीं, परिवार के लोग नौ साल बाद घर में दिवाली मनाने की तैयारी में जुटे हैं।

Iftekhar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned