एक बार फिर चर्चा में आया बिसाहड़ा, जानिये क्यों?

एक बार फिर चर्चा में आया बिसाहड़ा, जानिये क्यों?
Rs 2000

sandeep tomar | Publish: Dec, 28 2016 04:40:00 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

इस बार खबरों में आने की वजह अच्छी है और सभी को इसे अपनाना चाहिए

नोएडा: ग्रेटर नोएडा का गांव बिसाहड़ा एक बार फिर से चर्चा में हैं। इस बार चर्चा वहां संप्रदायिक हिंसा या किसी और की नहीं बल्कि कुछ और है। बात ये है कि पिछले कुछ महीनों में नेगेटिव चीजों के लिए चर्चा में रहा बिसाहड़ा गांव डिजिटल हो गया है। उसके साथ जिले के 24 और गांव डिजिटल होने की प्रक्रिया में हैं। जो जल्द ही हो जाएंगे। पेटीएम की ओर से इस पर काम शुरू हो गया है। कंपनी के अनुसार वेस्ट यूपी के सभी गांवों को कैशलेस किया जाएगा। लोगों को इसकी जानकारी दी जाएगी।

बिसाहड़ा गांव हुआ कैशलेस

गौतमबुद्धनगर के बिसाहड़ा गांव अखलाक और उसके बाद रविन की मौत के बाद काफी चर्चा में रहा। बिसाहड़ा कांड को वल्र्ड की तमाम न्यूज एजेंसियों ने जगह दी। बिहार चुनावों में केंद्र को निशाना बनाकर पूरा चुनाव बदल दिया। अब बिसाहड़ा गांव की भी तस्वीर बदल रही है। अब 2015 का वो बिसाहड़ा नहीं रहा, जो जाना जाता था। अब बिसाहड़ा गांव कैशलेस हो गया है। तमाम दुकानों पर कैशलेस की व्यवस्था कर दी गई है। बिसाहड़ा के साथ नीमका और सलेमपुर गुर्जर को भी कैशलेस कर दिया गया है। पेटीएम अधिकारियों की मानें तो कैशलेस के तहत गांवों के कई व्यापारियों को इससे जोड़ा गया है।

ये गांव भी कैशलेस की फेहरिस्त में

वहीं, दूसरी ओर गौतमबुद्धनगर के कई और भी कैशलेस की फेहरिस्त में आ चुके हैं। जिसमें उस्मानपुर, हल्दोनी मोरे, फलैदा बंगार, हबीबपुर, कुलेसरा, रबुपुरा, खेरी, सदरपुर, बरौला, तुगलपुर, छिजारसी, दोस्तपुर, मंगरौली, चिरौली, याकूतपुर, होशियारपुर, भंगेल बेगमपुर, सर्फाबाद, गेझा, छपरोला, रोजा जलालपुर और चोड़ा रघुनाथपुर को कैशलेस की प्रकिया में जुड़ चुके हैं। कंपनी के वाइस प्रेसीडेंट सुधांशु गुप्ता ने बताया कि गौतमबुद्ध नगर के सभी गांवों को कैशलेस करने की प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है। धीरे-धीरे सभी को कैशलेस से जोड़ा जा रहा है।

100 लोगों की बनाई टीम


सुधांशु गुप्ता ने बताया कि कंपनी की ओर से लोगों की समस्याओं को दूर करने के लिए 100 लोगों की टीम बनाई है। हमारी टीम व्यापारियों को पेटीएम का इस्तेमाल करने के फायदों के बारे में जानकारी देगी। वहीं डिजिटल पेमेंट के बारे में संपूर्ण जागरूकता फैलाने के लिए वर्कशॉप्स कर रही है। हमें स्थानीय व्यापारिक समुदाय और प्रशासन से काफी समर्थन प्राप्त हुआ है। कंपनी ने पेटीएम निअरबाई भी लांच किया है. यह एक ऐसा फीचर है जो ग्राहकों को उनके निकटतक पेटीएम व्यापारी तक गाइड करता है। पेटीएम ने एक टोलफ्री नंबर 180018001234 भी लांच किया है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned