आम्रपाली के खिलाफ आर्इआरपी की टीम ने शुरू की दिवालिया घोषित करने की कार्रवाई

Iftekhar Ahmed

Publish: Oct, 12 2017 10:53:36 (IST)

Noida, Uttar Pradesh, India
आम्रपाली के खिलाफ आर्इआरपी की टीम ने शुरू की दिवालिया घोषित करने की कार्रवाई

आर्इआरपी की जांच के लिए खोली गर्इ आम्रपाली ऑफिस फिर सील, जांच टीम को नहीं मिले जरूरी दस्तावेज

नोएडा. प्राधिकरण की ओर से सील किए गए सेक्टर-६२ स्थित आम्रपाली के कॉर्पोरेट ऑफिस को गुरुवार को करीब ढ़ार्इ घंटे के लिए खोला गया। दरअसल, ये मांग मामले की जांच कर रही आर्इआरपी की टीम ने प्राधिकरण से की थी। उन्हें कॉर्पोरेट ऑफिस से कुछ दस्तावेज खंगालने थे, लेकिन दस्तावेज न मिलने पर ऑफिस को दोबारा से सील कर दिया गया। इसके साथ ही टीम खाली हाथ वापस लौट गर्इ। कंपनी के टावर की सील नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल के आदेशों के बाद खोला गया था।

आरुषि-हेमराज हत्याकांडः तलवार दंपती की रिहाई पर पड़ोसियों ने ऐसी दी प्रतिक्रिया

इन दस्तावेजों के लिए खुलवार्इ गर्इ आम्रपाली के ऑफिस की सील
सूत्रों की माने तो आम्रपाली सिलिकॉन सिटी प्राइवेट लिमिटेड बनाम बैंक ऑफ बड़ौदा के मामले में एनसीएलटी ने आम्रपाली के खिलाफ दिवालिया कानून के तहत प्रक्रिया चलाने की याचिका स्वीकार कर ली है। इसी मामले में नियुक्त की गर्इ आईआरपी की टीम को आम्रपाली की संपत्ति का अवलोकन और उससे जुड़े दस्तावेज, कंप्यूटर, लैपटॉप की जांच करनी है। ऐसे में प्राधिकरण से मांग की गई थी कि वह जांच में पूर्ण सहयोग करें। इसके बाद ही टीम यहां पहुची थी।

सुप्रीम कोर्ट का फैसला बेअसर: NCR में पटाखों की ऑनलाइन हो रही होम डिलीवरी

पांच अक्टूबर को मिले आदेशों पर खोला गया ऑफिस
आपको बता दें कि एनसीएलटी ने 5 अक्टूबर को प्राधिकरण को आर्इआरपी का सहयोग करने का आदेश दिया गया था। इसी कड़ी में गुरुवार दोपहर करीब तीन बजे नोएडा प्राधिकरण ने आम्रपाली के सील किए हुए टावरों को दोबारा खोला। शाम करीब साढ़े पांच बजे टावर को दोबारा सील कर दिया गया। करीब ढाई घंटे तक आईआरपी समेत पांच सदस्यीय टीम दफ्तर में जांच पड़ताल करती रही। लेकिन, उनके हाथ ऐसा कुछ नहीं लगा जिसे वह लेने आई थी। फिलहाल, कुछ दस्तावेजों को लेकर टीम वापस चली गई। इस पूरे मामले की प्राधिकरण द्वारा विडियो ग्राफी कराई गई। प्राधिकरण अधिकारियों ने बताया कि इस मामले में यदि आईआरपी द्वारा दोबारा से टावर खोलने को कहा जाएगा तो उसे खोला जाएगा। इसके अतरिक्त किसी अन्य मामले में टावर को खोला नहीं जाएगा। वह पहले की तरह ही सील रहेगा।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले को बेअसर करने के लिए ऑनलाइन कंपनियों ने पटाखे बेचने का निकाला नया तरीका

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned