जेपी इंफ्राटेक दिवालिया: समय पर घर न मिला तो अगली बार BJP को वोट नहीं

निवेशक ने कहा कि बैंक और बिल्डर एक साथ मिले हुए हैं और हमारे पैसे को हजम करना चाहते हैं

By: Rajkumar

Published: 13 Aug 2017, 04:38 PM IST

नोएडा। एनसीएलटी द्वारा जेपी इंफ्राटेक को दिवालिया घोषित किए जाने के बाद शनिवार को सैकड़ों निवेशकों ने सेक्टर-128 स्थित जेपी के दफ्तर पर जमकर हंगामा काटा। इस दौरान यहां गार्ड्स और निवेशकों के बीच झड़प भी हुई जिसमें 2-3 निवेशकों को चोटें भी आईं। निवेशकों ने जमकर नारेबाजी की और बैंक और बिल्डर पर मिलीभगत का आरोप लगाते हुए कहा कि निवेशकों का पैसा हजम करने के लिए बिल्जर बैंक के साथ मिलकर खुद को दिवालिया घोषित करने की चाल चल रहा है। मनीष नाम के एक निवेशक ने कहा कि बैंक और बिल्डर एक साथ मिले हुए हैं और हमारे पैसे को हजम करना चाहते हैं। तभी जेपी समूह के चेयरमैन मनोज गौड़ के साथ आईडीबीआई बैंक के जीएम यहां आए। जबकि उसी बैंक ने एनसीएलटी में जेपी इंफ्राटेक के खिलाफ याचिका दायर की। उन्होंने प्राधिकरण पर भी आरोप लगाते हुए कहा कि प्राधिकरण और कई छोटे नेता भी बिल्डर को सपोर्ट कर रहे हैं।

 

भाजपा को अगली बार वोट न देने की दी चेतावनी

एस.एन वर्मा नामक निवेशक ने बताया कि आज उनके साथ जो कुछ भी हो रहा है उसमें सरकार भी शामिल है। उन्होंने कहा कि हमने भाजपा को बड़ी उम्मीद के साथ वोट दिया था कि हमें हमारा घर मिल पाएगा। लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ और अब बिल्डर को दिवालिया घोषित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यदि सरकार ने जल्द से जल्द हमें हमारे घर नहीं दिलावाया तो अगली बार हम लोग भाजपा को वोट नहीं देंगे और अधिक से अधिक लोगों से अपील करेंगे की भाजपा को वोट न दें।

 

jaypee group

विधायक पंकज सिंह ने दिया आश्वासन

मामले की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे भाजपा विधायक पंकज सिंह ने निवेशकों को आश्वासन दिया और कहा कि उन्होंने सीएम योगी से इस संबंध में बात की है और उन्होंने तीनों प्राधिकरणों के सीईओ को इस संबंध में तलब किया है। उन्होंने लोगों से कहा कि वह सरकार पर विश्वास रखें और उनकी समस्याओं का निवारण जल्द से जल्द किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि शनिवार को निवेशकों के आक्रोश को बढ़ता देख जेपी इंफ्राटेक के मालिक मनोज गौड़ यहां लोगों को समझाने के लिए आए थे। उनके साथ आईडीबीआई के जीएम सिन्हा और आईआरपी एडवाइजर को भी मौजूद थे। लेकिन यहां निवेशक इतने भड़क गए कि उन्होंने गौड़ का घिराव करने की कोशिश की। जिसके बाद बाउंसर और निवेशकों में जमकर धक्का-मुक्की हुई। जैसे-तैसे गौड़ वहां से बाहर निकल पाए। इस दौरान निवेशकों ने जमकर तोड़फोड़ भी की और जेपी के सेल्स एंड मार्केटिंग ऑफिस पर कब्जा कर वहीं बैठ गए थे।

Show More
Rajkumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned