जेपी इंफ्राटेक उठाने जा रहा बड़ा कदम, बायर्स अभी भी निराश

जेपी इंफ्राटेक के लेंडर्स की कमेटी लक्षद्वीप प्रा. लि. से मिलकर चर्चा करेंगे।

By: Rahul Chauhan

Published: 06 May 2018, 08:22 PM IST

नोएडा। कर्ज में डूबी जेपी इंफ्राटेक कई साल बाद भी बायर्स को उनके सपनों के मकान नहीं दे पा रही। जिसके चलते बायर्स ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा भी खटखटाया है। वहीं इस कर्ज को चुकाने के लिए कंपनी के लेंडर्स की कमेटी (CoC) 7 मई को लक्षद्वीप के प्रपोजल पर चर्चा करेगी। दरअसल, लक्षद्वीप कंपनी ने जेपी इंफ्राटेक को खरीदने के लिए 7,350 करोड़ रुपये का ऑफर दिया है। इसमें से करीब 3 हजार करोड़ रुपये से बायर्स को घर दिए जाएंगे जबकि बचे हुए पैसे से बैंक का लोन चुकाने की बात कही जा रही है।

यह भी पढ़ें : 1000 और 500 के नोट के बाद अब 100 रुपये के इन नोटों की हो सकती है नोटबंदी!

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कल जेपी इंफ्रा की कमेटी लक्षद्वीप प्रा. लि. के अधिकारियों से मिलकर बात करेगी। इस दौरान कमेटी कंपनी के प्रपोजल पर चर्रा करेगी और इसके बाद ही किसी तरह का निष्कर्ष निकलेगा। जानकारी के मुताबिक वर्तमान में जेपी इंफ्रा की कुल संपत्ति की वैल्यू करीब 24 हजार करोड़ है। जबकि कंपनी पर करीब 10 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है। इसमें बैंक लोन व फ्लैट पूरे करने का पैसा शामिल है।

यह भी पढ़ें : 2012 के बाद तबाही की भविष्यवाणी एक बार फिर साबित हुई गलत, जारी हुई थी ये चेतवानी

वहीं बायर्स का कहना है कि जेपी इंफ्रटेक को चाहे दूसरी कंपनी टेकओवर करे लेकिन हमें हमारे घर मिलने चाहिए। इसके साथ ही जो घर देने में डिले हो रहा है उसकी पैनल्टी भी हमें चाहिए। वहीं बायर्स ने जेपी इंफ्रा को खऱीदने के लिए लगाई गई बिड पर भी चिंता जाहिर की है और कहा कि जब कंपनी के एसेट वैल्यू 14 हजार से अधिक है तो फिर महज 7,350 रुपये में कंपनी को कैसे खरीदा जा सकता है।

यह भी पढ़ें : बायर्स के साथ धोखाधड़ी करने वाले बिल्डरों की खैर नहीं, प्रशासन ने जारी किया ये बड़ा निर्देश

जेपी बायर प्रमोद ने बताया कि जेपी इंफ्रा को खरीदने के लिए कंपनी ने को वैल्यू लगाई है वह काफी कम है। जबकि एसेट वैल्यू पर गौर करें तो वह इसकी दोगुनी है। उन्होंने बताया कि हमें हमारी घरों से मतलब है और जो कंपनी जेपी इंफ्रा को खरीद रही है उसका कहना है कि बायर्स को घर तो मिलेंगे लेकिन जो देरी हो रही है उसके लिए कोई पैनल्टी नहीं दी जाएगी। हम सुप्रीम कोर्ट में एक पत्र भी दायर करेंगे जिसमें कंपनी की संपत्ति की वैल्यू का विवरण किया जाएगा।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned