हापुड़ से अपहृत लड़की का शव नोएडा में अस्पताल के बाहर छोड़ भागे दो युवक

हापुड़ के थाना सिंभावली क्षेत्र के एक गांव से दस दिन पूर्व कॉलेज जाते समय लापता हुई थी किशोरी

By: lokesh verma

Published: 03 Apr 2021, 05:46 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
नोएडा. हापुड़ के थाना सिंभावली क्षेत्र के एक गांव से दस दिन पूर्व कॉलेज जाते समय लापता हुई किशोरी का शव नोएडा के सेक्टर-33 स्थित एक निजी अस्पताल के बाहर एंबुलेंस में मिला है। नोएडा सेक्टर-24 थाने की पुलिस ने शव को कब्जे में पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों को साैंप दिया है। इसके साथ ही लड़की को अस्पताल लेकर आने वाले लोगों की सीसीटीवी फुटेज जांच के लिए सिंभावली थाना पुलिस को सौंप दी है।

यह भी पढ़ें- कोर्ट में पेशी के दौरान पिस्टल छीनकर भाग रहे गैंगरेप के मुख्यारोपी को एनकाउंटर में गोली मारकर किया पस्त

पुलिस के अनुसार, नोएडा के सेक्टर-35 स्थित सुरभि अस्पताल के बाहर बाइक सवार दो लोग 14 साल की नबालिक लड़की को इलाज के लिए लेकर आए थे। लेकिन, डॉक्टर ने लड़की को मृत्य घोषित कर दिया। उन्होंने शव को ले जाने के लिए एंबुलेंस की मांग की। एंबुलेंस चालक ने बताया कि आरोपी एंबुलेंस में शव रखकर एटीएम से पैसे निकालने का बहाना बनाकर वहां से जाने लगे। इस पर एंबुलेंस चालक ने उनसे उनका मोबाइल नंबर मांगा तो आरोपियों ने मृतका के परिजनों का नंबर दे दिया और पैसे लेकर आने तक उससे वहीं रुकने को कहा। जब आरोपी काफी देर तक नहीं लौटे तो एंबुलेंस चालक को शक हुआ और उसने उक्त नंबर पर फोन किया। फोन मृतका के परिजनों के पास पहुंचा तब उन्हें घटना का पता चला। मामले की जानकारी होने पर एंबुलेंस चालक ने पुलिस को सूचना दी। इस पर थाना सेक्टर-24 पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर उसका पोस्टमार्टम करने के बाद पोस्टमार्टम की रिपोर्ट और लड़की को अस्पताल लेकर आने वाले लोगों की सीसीटीवी फुटेज मामले को जांच के लिए सिंभावली थाना पुलिस को सौंप दी।

लड़की का पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर अभिषक दुबे का कहना है पोस्टमार्टम की प्रारम्भिक रिपोर्ट के अनुसार मृतक लड़की 14 साल की है। मौत का कारण दम घुटना है। मृतका के शरीर पर कोई भी बाहरी या भीतरी चोट के निशान नहीं मिले हैं। रेप की पुष्टि भी नहीं हुई है। मृतिका का बिसरा और स्वाप जांच के लिए लैब भेजा गया है। पुलिस को आरोपियो के मिले सीसीटीवी फुटेज में से एक शख्स की पहचान फिरोज के रूप में परिवार वालों ने की है। लड़की के परिजनों के अनुसार, फिरोज 22 मार्च को उनके घर पहुंचा और बेटी के लापता होने पर दुख व्यक्त किया था। वहीं, लोकलाज का भय दिखाकर पुलिस में सूचना नहीं देने की बात भी कही थी। परिजनों ने बताया कि आरोपी उनके साथ लगातार बेटी को तलाश करने का नाटक करता रहा था।

यह भी पढ़ें- बसपा नेता ने ब्यूटी पार्लर संचालिका को घर बुलाकर की गंदी बात तो चप्पल से जमकर पीटा

lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned