यूपी का वो डीएसपी, जिसने दंगल फिल्म की गीता-बबीता को सिखाए कुश्ती के गुर

  यूपी का वो डीएसपी, जिसने दंगल फिल्म की गीता-बबीता को सिखाए कुश्ती के गुर
dangal girls

sandeep tomar | Publish: Dec, 22 2016 04:23:00 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

हर दांंव और पेच ऐसा की कुश्ती का बड़े से बड़ा जानकार भी इन दो एक्टरों को पूरे—पूरे नंबर देगा

संजय श्रीवास्तव, नोएडा। जब आप आमिर खान की चर्चित फिल्म दंगल देख रहे होंगे, तो गीता-बबीता का रोल कर रहीं खूबसूरत एक्टर्स के पहलवानी के परफेक्शन को देखकर हैरान हो सकते हैं। हर दांंव और पेच ऐसा की कुश्ती का बड़े से बड़ा जानकार भी इन दो एक्टरों को पूरे—पूरे नंबर देगा। इन दोनों लड़कियों को कुश्ती के गुर यूपी के एक डीएसपी ने सिखाए हैं। ये कैसे हुआ इसकी कहानी भी कम दिलचस्प नहीं।

Image may contain: 3 people, people smiling

आमिर खान ने एक साल पहले बुलाया

ये डीएसपी हैं जगदीश कालीरमन। कुश्ती जगत के जाने पहचाने नाम। देेश में कुश्ती के पुरोधा मास्टर चंदगीराम के बेटे। महिला कुश्ती को पहचान देने वाली के सोनिका कालीरमन और दीपिका कालीरमन के भाई। जगदीश को हम सभी लोगों ने फिल्म सुल्तान में भी सलमान खान को कुश्ती के दांवपेच सिखाते हुए रूपहले पर्दे पर देखा है। करीब एक साल पहले अप्रैल 2005 में बॉलीवुड स्टार आमिर खान ने उन्हें अर्जुन अवार्ड प्राप्त पहलवान कृपाशंकर को बुलाया।

Image may contain: 2 people, people standing

करना था रोल के लिए लड़कियों का चयन

आमिर ने गीता और बबीता के रोल के लिए 10 हजार में छह लड़कियां छांटी थीं। अब वो चाहते थे कि जगदीश और कृपाशंकर इनमें से दो लड़कियों को सलेक्ट करें। छांटी गईं लड़कियां मॉडल थीं और सुंदर भी लेकिन कमी एक ही थी कि उन्हें पहलवानी नहीं आती थी। तब जगदीश ने उनसे कहा कि इन लड़कियों को तुरंत सलेक्ट करने की बजाए ये देखना चाहिए कि कौन सी लड़की इस रोल में कद-काठी के साथ साथ रेसलिंग क्षमता और फिटनेस के लिहाज से फिट बैठेंगी।

Image may contain: 6 people, people standing

दो हफ्ते में बना रिपोर्ट कार्ड

अब जगदीश और कृपाशंकर ने इन छह लड़कियों को दो हफ्ते मुंबई के कांदीवली के एक जिम और खेल प्राधिकरण के केंद्र पर कई पहलुओं पर जांचा परखा। प्रैक्टिस, मनोविज्ञान, फिटनेस, कुश्ती मूवमेंट के लिहाज से उनकी ट्रेनिंग कराई गई। फिर उनका रिपोर्ट कार्ड तैयार हुआ। दो हफ्ते बाद जब डेमो हुआ तो आमिर ने भी उन्हीं दो लड़कियों पर मुहर लगाई, जिसे दोनों कुश्ती के दिग्गजों ने ओके किया था। ये दो लड़कियां थीं दिल्ली की सान्या मल्होत्रा और जम्मू की फातिमा। फातिमा का चयन गीता के लिए हुआ और सान्या का बबीता के रोल के लिए।

Image may contain: 5 people, people smiling

फिर छह महीने हुई भरपूर ट्रेनिंग

फिल्म की शूटिंग से पहले सान्या और फातिमा की छह महीने तक मुंबई में कुश्ती की जबरदस्त ट्रेनिंग कराई गई, ताकि वह पऱफेक्ट पहलवान लगने लगें। इस ट्रेनिंग में कृपाशंकर लगातार लड़कियों के साथ रहे तो जगदीश कुछ कुछ समय पर मुंबई जाते रहे। इसी बीच उन्हें सलमान खान ने अपनी फिल्म सुल्तान में भी रोल दिया। वह उसमें बिजी हो गए। हालांकि ये बात भी थी कि य़ूपी पुलिस में कार्यरत होने के कारण उन्हें लगातार ज्यादा समय मुंबई ट्रेनिंग में देना मुश्किल था। पिछले दिनों जगदीश का प्रोमोशन हुआ। अब वह मुरादाबाद में पीएसी में डीएसपी के रूप में ज्वाइन कर रहे हैं।

Image may contain: 4 people, people smiling, people standing

आसान नहीं था मॉडल्स को कुश्ती सिखाना

जगदीश कहते हैं कि मॉडल्स को कुश्ती सिखाना और परफेक्ट करना आसान नहीं था। बहुत मेहनत करनी पड़ी। लड़कियों ने भी खूब मेहनत की। माहौल से परिचित कराने के लिए उन्हें कुश्ती के नेशनल कैंप में भेजा गया। छह महीने बाद जब फिल्म की शूटिंग शुरू हुई तो वाकई ये लड़कियां मंझी हुई पहलवान बन चुकी थीं। उम्मीद है कि जब आप फिल्म दंगल देखने जाएंगे तो आमिर सहित महिला एक्टर्स के कुश्ती के दावपेंच के प्रभावित होंगे। जगदीश का कहना है कि पहले सुल्तान और अब आमिर की फिल्म दंगल महिला पहलवानों को लेकर लोगों के नजरिए को और बदलेगी।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned