नवजात की मौत का कारण तलाशने अस्पताल पहुंची NCPCR की टीम, पीड़ित दंपति ने आयोग से लगाई थी गुहार, देखें वीडियो

नवजात की मौत का कारण तलाशने अस्पताल पहुंची NCPCR की टीम, पीड़ित दंपति ने आयोग से लगाई थी गुहार, देखें वीडियो

Rahul Chauhan | Updated: 07 Aug 2019, 06:31:49 PM (IST) Noida, Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh, India

खबर की मुख्य बातें-

-आयोग की टीम ने बताया कि उन्होंने अस्पताल जाकर देखा कि वहां किस स्तर पर लापरवाही हुई है

-इस मामले में जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाई के लिए शासन से सिफारिश की जाएगी

-उन्होंने बताया कि ग्रेटर नोएडा निवासी अंकित गर्ग ने राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग में शिकायत दर्ज कराई थी

नोएडा। शहर के एक निजी अस्पताल में डाक्टरों की लापरवाही से नवजात की मौत की जांच करने के लिए बुधवार को राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग की टीम नोएडा पहुंची। आयोग के सदस्य डॉ. आर.जे आनंद, सीनियर टेक्निकल एक्सपर्ट शाइस्ता के. शाह के साथ सेक्टर-38 स्थित विद्युत गेस्ट हाउस में मीडिया से रूब-रू हुए।

यह भी पढ़ें: उन्नाव पीड़िता के आरोपी विधायक को सपा कार्यकर्ताओं ने की फांसी देने की मांग

इस दौरान राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग की टीम ने बताया कि उन्होंने अस्पताल जाकर देखा कि वहां किस स्तर पर लापरवाही हुई है। इस मामले में जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाई के लिए शासन से सिफारिश की जाएगी। उन्होंने बताया कि ग्रेटर नोएडा निवासी अंकित गर्ग ने राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग में शिकायत दर्ज कराई थी। जिसकी जांच करने के लिए आयोग के सदस्य डॉ. आर.जे आनंद और आयोग की सीनियर टेक्निकल एक्सपर्ट शाइस्ता के. शाह को भेजा है। शिकायत के अनुसार 9 मार्च 2019 को पत्नी श्वेता कश्यप को प्रसव के लिए सेक्टर-51 स्थित क्लाउड नाइन अस्पताल में भर्ती कराया था। वहां प्रसव के बाद अस्पताल की दो महिला डॉक्टरों की लापरवाही से नवजात की मौत हो गई थी। इस बाबत पीड़ित ने अस्पताल प्रबंधन और महिला डॉक्टर को जिम्मेदार मानते हुए सेक्टर-49 कोतवाली में लापरवाही का मुकदमा दर्ज कराया था।

यह भी पढ़ें: मूसलाधार बारिश के कारण स्टेट हाइवे की सड़क धंसी, ट्रक सवार दो लोग गंभीर, कई बाल-बाल बचे

इस मामले के उजागर होने के बाद जिलाधिकारी गौतमबुद्धनगर ने जांच के लिए सीएमओ की अध्यक्षता में कमेटी बनाई थी। क्लाउड नाइन अस्पताल में डॉक्टरों की लापरवाही मामले की जांच मुख्य चिकित्सा अधिकारी के साथ तीन सदस्यीय टीम ने की थी। उस जांच की रिपोर्ट से पीड़ित संतुष्ट नहीं हुआ। उसका आरोप है कि विभाग की ओर से अस्पताल प्रबंधन और आरोपी डॉक्टरों को बचाने का प्रयास किया जा रहा है। जांच के दौरान उससे किसी भी तरह की कोई पूछताछ नहीं की गई। उस रिपोर्ट से असंतुष्ट मृत बच्चे के पिता अंकित गर्ग ने राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग में शिकायत दर्ज कराई।

यह भी पढ़ें : 24 घंटे में बिजनौर पुलिस ने लूट के आरोपी को किया गिरफ्तार, 2 साथी अभी भी फरार, देखें वीडियो

शिकायत दर्ज होने के बाद राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने जिलाधिकारी से जांच रिपोर्ट तलब की। उस रिपोर्ट का अध्ययन करने के बाद आयोग के सदस्य डॉ. आर.जे आनंद बुधवार को आयोग की सीनियर टेक्निकल एक्सपर्ट शाइस्ता के. शाह के साथ सेक्टर-51 स्थित क्लाउड नाइन अस्पताल गए और वहां बारीकी से जांच की। इस दौरान उन्होंने पीड़ित दंपत्ति से भी मुलाकात और बातचीत की। डॉ. आरजी आनंद ने बताया कि इस मामले गंभीरता से जांच की जा रही है। जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ शासन से कार्रवाई करने की सिफारिश की जाएगी।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned