नेवी के इस जवान को बेटी की वजह से करना पड़ा सुसाइड!

परिवार के साथ छुट्टियां मनाने आया था नेवी का अफसर, पत्नी का कहना- बेटी बोल नहीं पाती थी इसलिए रहते थे परेशान

By: pallavi kumari

Updated: 10 Nov 2017, 01:00 PM IST

नोएडा. सेना से छुट्टी लेकर घर आए नौ सेना के जेसीओ ने खिड़की की ग्रिल से लटककर आत्महत्या कर ली। उनके परिवार को इसका पता बुधवार सुबह लगा। पत्नी ने पति को ग्रिल से लटका देख पुलिस व पड़ोसियों को इसकी सूचना दी। कोतवाली सेक्टर-45 पुलिस ने शव का पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस को मृतक के पास से सुसाइड नोट नहीं मिला है। पुलिस आत्महत्या के कारणों का पता लगाने में जुटी है।

छुट्टी लेकर परिवार के पास आए थे, सूबेदार

मुंबई निवासी संतोष कुमार (35) दिल्ली में जल सेना में सूबेदार थे। वह अपनी पत्नी मधु व चार साल की बेटी के साथ सेक्टर-45 में रहते थे। वह इन दिनों दिल्ली में तैनात थे आैर छुट्टी पर अपने परिवार के पास आए थे। उनके पिता सुरेंद्र प्रसाद सिंह रेलवे के रिटायर्ड अधिकारी हैं। इन दिनों उनके पिता व मां नोएडा आई हुई थी। मंगलवार को उनके माता पिता हरिद्वार गए थे। दोनों ने संतोष से भी हरिद्वार चलने के लिए कहा था, लेकिन संतोष से जाने से मना कर दिया। पुलिस के अनुसार मंगलवार रात संतोष अपनी पत्नी और बेटी के साथ कमरे में सो गए थे। सुबह जब पत्नी मधु उठीं तब कमरे में संतोष नहीं थे। दूसरे कमरे में पत्नी ने झांका तो वह ग्रिल के रॉड से चादर के सहारे लटके हुए थे। इसके बाद उन्होंने पुलिस को सूचना दी। कोतवाली सेक्टर-39 के प्रभारी निरीक्षक अवनीश दीक्षित का कहना है कि आत्महत्या के कारणों का अभी स्पष्ट कुछ पता नहीं चला है। पत्नी से बातचीत में यह जानकारी मिली है कि उनकी बेटी बोल नहीं पाती थी। इस कारण वह परेशान रहते थे। पत्नी ने बताया कि संतोष बेटी की लाचार हालत को देखकर हमेशा ही मायूस और परेशान हो जाते थे। उन्होंने बताया कि पुलिस विभिन्न पहलुओं पर मामले की जांच कर रही है।

 

suicides

बेटे के मौत की सूचना पर घर लौटे माता-पिता
संतोष के माता पिता कुछ दिन पहले ही अपने बेटे से मिलने नोएडा आए थे। उन लोगों की प्लानिंग थी कि वे अपने बेटे व बहू के साथ हरिद्वार जाएंगे। लेकिन संतोष के मना करने पर दोनों अकेले हरिद्वार चले गए। इसके अगले ही दिन उन्हें उन्हें अपने बेटे की आत्हत्या की सूचना मिली। जिसके बाद दोनों वापस बेटे के घर पहुंचे।

pallavi kumari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned