मूलभूत सुविधाओं से वंचित सोसाइटी RG Residency का नेफोमा टीम ने किया सर्वे, पाई कई खामियां, देखें वीडियो

Rahul Chauhan | Updated: 21 Jul 2019, 06:03:56 PM (IST) Noida, Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh, India

खबर की मुख्य बातें

-नेफोमा को सर्वे में पाया गया कि सोसाइटी के चारों तरफ ग्रीन बेल्ट व अंदर के पार्क में घास का जंगल बना हुआ है

-टावर की एंट्री गेट पर गार्ड नहीं है

-टावर के वेटिंग एरिया में गंदगी जमा थी

नोएडा। सेक्टर 120 स्थिति आरजी रेजीडेंसी में मूलभूत सुविधाओं से वंचित निवासियों की शिकायत पर फ्लैट बायर्स की संस्था नेफोमा के सदस्यों ने सोसाइटी का सर्वे कर ताजा स्थिति जानी। आरोप है कि बिल्डर ने दो साल का मेंटिनेंस एडवांस में लेकर मार्च 2018 से सोसाइटी का मेंटीनेंस ही नहीं कराया। जिससे सोसाइटी निवासियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें : तेज बारिश के बाद नदी का जलस्तर बढ़ते ही HARIDWAR जाने का ये मार्ग किया गया बंद- देखें वीडियो

नेफोमा टीम के अनुसार, सर्वे में पाया गया कि सोसाइटी के चारों तरफ ग्रीन बेल्ट व अंदर के पार्क में घास का जंगल बना हुआ है। टावर की एंट्री गेट पर गार्ड नहीं है। टावर के वेटिंग एरिया में गंदगी जमा थी। जे टावर के सोफे पर कुत्ते सोते हैं और कई दिनों से सोफे पर गद्दा रखा हुआ था, जिसे नेफोमा सदस्यों ने गार्ड को बुलाकर हटवाया। टावर की नीचे सीवर के पाईपों से गन्दा पानी टपक टपक कर पार्किंग एरिया में भरकर रोड़ पर आ जाता है।

निवासियों ने बताया कि बरसात के मौसम में बेसमेंट में बारिश का पानी व गन्दा सीवर का पानी मिक्स होकर भर जाता है। जिससे निवासियों की गाड़ियां खराब हो जाती हैं व गन्दगी बीमारियों को जन्म देती है। बिल्डर ने सिक्योरिटी एजेंसी के लाखों रुपये नहीं दिए। जिससे सिक्योरिटी एजेंसी ने लगभग 50 गार्ड सोसाइटी से हटा लिए। गार्ड सुपरवाइजर ने बताया हम सभी गार्डों को बिल्डर की तरफ से 6 महीने से तनख्वाह नहीं मिली है। इसी तरह से गंगा वाटर की पानी की सप्पलाई के सवा करोड़ न देने की वजह से पानी का कनेक्शन कटा हुआ है।

यह भी पढ़ें : पलायन मामले में आया नया मोड़, पुलिस ने ये बड़ा दावा करते हुए किया तीन को गिरफ्तार

निवासी वसीम हैदर ने बताया कि सभी टावर में दो लिफ्ट लगी हुई है, लेकिन एक लिफ्ट ही चलती है। वो भी कभी बीच में खराब हो जाती है। अभी हाल में ही एक निवासी लिफ्ट में फस गए थे, समस्या यह है कि अगर दिन में कोई महिला या बच्चा लिफ्ट फंस जाता है तो इंटरकॉम काम नहीं करता। किसी तरह इंटरकॉम लग भी गया तो टावर में गार्ड नहीं होता। लिफ्ट कम्पनी को बिल्डर द्वारा 50 लाख रुपए की पेमेंट नहीं की गई है। इसलिए लिफ्ट कम्पनी रख-रखाव नहीं कर रही है।

निवासी दिनेश दिवांगन ने बताया कि फायर सिस्टम कभी चेक नहीं हुआ है। बिल्डर द्वारा कभी डेमो भी नहीं किया गया। फायर सिस्टम का रूटीन चेकअप न होने के कारण आग के लगे उपकरण भी खराब हो रहे हैं। हमेशा कोई अनहोनी न हो जाए इसकी चिन्ता सताती रहती है। निवासी तनवीर हयात खान ने बताया कि पार्किंग की समस्या बहुत गम्भीर है। पार्किंग के चक्कर में मुझे रात 2 बजे पुलिस थाने जाना पड़ा। बिल्डर न तो स्टीकर जारी कर रहा है और न ही पार्किंग मार्किंग कर रहा है। मेरी पार्किंग पर दूसरा निवासी गाड़ी खड़ी कर देता है, रोज गार्ड से बहस करनी पड़ती है।

नेफोमा महासचिव रश्मि पांडेय ने बताया सोसाइटी निवासियों का आरोप है कि 500 रुपए हर फ्लैट से इक्क्ठा कर जैसे तैसे कुछ काम करा रहे है। अगर बिल्डर सही से सोसायटी को मेंटीनेंस नहीं कर पा रहा है तो प्राधिकरण को आगे आना चाहिए और निवासियों की समस्या को देखते हुए स्वयं मेंटीनेंस करना चाहिए।

यह भी पढ़ें : सीएमओ कार्यालय पर RTI कानून का पालन नहीं करने का समाजसेवी ने लगाया आरोप

वहीं नेफोमा अध्यक्ष अन्नू खान ने बताया आरजी रेजीडेंसी सोसाइटी में 10 टावर में 1540 फ्लैट हैं। जिसमें लगभग 1000 निवासी शिफ्ट हो चुके हैं। सोसाइटी में बहुत गन्दगी है, मच्छर हर टावर के नीचे है। सीवर ट्रीटमैंट प्लांट सही से नहीं चल रहा है। टावर के नीचे पाइपों से गन्दा पानी टपक रहा है। नेफोमा ने निवासियों से बात कर उनकी समस्याओं को समझा है। प्राधिकरण की सीईओ, जिलाधिकारी, विधायक को अपनी रिपोर्ट सौंप कर कार्रवाही की मांग कर निवासियों को न्याय दिलाएंगे। मीटिंग में निवासी शिव अवस्थी, दिनेश दिवांगन, वसीम हैदर, सतेंदर, तनवीर हयात खान, प्रताप सिंह, नेफोमा टीम से अध्यक्ष अन्नू खान, महासचिव रश्मि पांडेय, सदस्य आसिम खान, आर.केय कुशवाहा, आजिम खान आदि शामिल रहे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned