एटीएम से हर रोज गायब होते हैं 20 हजार रुपए, जानिए पूरा मामला

एटीएम से हर रोज गायब होते हैं 20 हजार रुपए, जानिए पूरा मामला
atm fraud

sandeep tomar | Publish: Jan, 03 2017 07:12:00 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

साइबर सेल के हेड इंस्पेक्टर विवेक रंजन राय ने कई खुलासे किए हैं

नोएडा। हार्इटेक सिटी नोएडा अपराध के मामले में जितना ऊपर है, उससे कहीं ज्यादा साइबर फ्राॅड में आगे है। यहां हर दिन २० हजार रुपये एटीएम से गायब हो जाते है। यानि कि औसतन हर रोज 20 हजार रुपए का एटीएम फ्राॅड होता है। बदमाश लोगों को किसी न किसी तरह से झांसा देकर उनके खाते से हर रोज 20 हजार रुपये चोरी कर रहे हैं। 2016 में ठगों ने करीब 50 लाख रुपये का एटीएम फ्राॅड किया।

हालांकि ठगों को चोट देने के लिए लाखों की कीमत से तैयार साइबर अपराध अन्वेषण केंद्र में तैनात पुलिसकर्मियों ने समय पर शिकायत मिलते ही करीब १०९ लोगों के खाते से निकले 50 लाख में से 44 लाख रुपये वापस कराए। यह राशि सिर्फ एटीएम फ्राॅड में शिकार लोगों की है। यहां ठगी के शिकार एेसे कर्इ लोग भी पहुंचते, जो समय पर शिकायत नहीं दे पाते। जिसके चलते साइबर क्राइम सेल टीम उनका रुपया वापस नहीं करा पाती है।

हर दिन चार से पांच लोग होते हैं शिकार

शहर में हर दिन चार से पांच लोग एटीएम फ्राॅड का शिकार होते हैं। इनमें सबसे ज्यादा लोग अनपढ़ हैं। वहीं, पढ़े लिखे लोग भी ठगों के झांसे में आ जाते हैं। अन्वेषण केंद्र के प्रभारी विवेक रंजन राय ने बताया कि ज्यादातर लोग एटीएम फ्राॅड के झांसे में फंस जाते हैं। इनमें से जो लोग समय रहते शिकायत दे देते हैं। एेसे लोगों के रुपये वापस करा दिये जाते हैं। पिछले साल एक जनवरी से अब तक १०९ लोगों ने एटीएम फ्राॅड होने पर समय रहते शिकायत की। इन लोगाें के खाते से एटीएम के जरिये करीब ५० लाख रुपये निकले गए थे। इस पर तुरंत कार्रवार्इ करते हुए, करीब ४४ लाख रुपया वापस कराया गया। यह रुपया पुलिस ने सीधा उन्हीं के खाते में वापस कराया।

नोटबंदी के बाद से एटीएम फ्राॅड में आर्इ कमी

इसके साथ ही इंस्पेक्टर ने बताया कि नोटबंदी के बाद से एटीएम फ्राॅड में कमी आर्इ है। लिमिट तय होने के चलते ठग रुपये नहीं निकाल पा रहे हैं। इसका फायदा यह जरूर दिखार्इ दे रहा है, लेकिन ठग आधार कार्ड लिंक कराने, साॅफटवेयर अपडेट करने समेत एटीएम की अन्य डिटेल लेकर उनके खाते से रुपया ट्रांसफर कर रहे हैं।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned