जेल से जिस्मफरोशी का रैकेट चला रही सोनू पंजाबन, भाई समेत 2 गिरफ्तार, जानिये कैसे होती थी डील

Highlights

-जेल से जिस्मफरोशी का रैकेट चला रही सोनू पंजाबन के भाई समेत 2 गिरफ्तार

-ऑनलाइन स्पा के नाम पर ये गैंग सेक्स रैकेट की आड़ में लोगों के साथ ठगी और लूट की वारदात को अंजाम दे रहा था

By: Rahul Chauhan

Published: 15 Sep 2020, 11:52 AM IST

नोएडा। दिल्ली-एनसीआर में जिस्मफरोशी का रैकेट चलाने वाली और नाबालिग लड़कियों को देह व्यापार में धकेलने की आरोपी सोनू पंजाबन भले ही जेल में हो, लेकिन उसका गंदा धंधा, उसके रिश्तेदार और जानकार अभी भी चला रहे हैं। सोनू पंजाबन जेल के अंदर से अपने सेक्स रैकेट के धंधे को आपरेट कर रही थी तो वहीं बाहर उसका भाई अन्य साथियों की सहायता से एस्कॉर्ट सर्विस के नाम पर लोगों से धोखाधड़ी कर रहा था। नोएडा थाना 58 पुलिस ने सोनू पंजाबन के भाई और उसके साथी को ऑनलाइन स्पा के नाम पर लोगों से ठगी और लूटपाट करने का आरोप गिरफ्तार किया है। वारदात के लिए इस्तेमाल की गई सेन्ट्रों कार और मोबाइल और नगदी बरामद की है।

पुलिस की गिरफ्त में आए आरोपियों के नाम संजय उर्फ शान तथा अर्जुन है। दोनों को सेक्टर 58 थाने की पुलिस ने ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से एस्कॉर्ट सर्विस चला कर लोगों से धोखाधड़ी करने के आरोप में पकड़ा है। एडिशनल डीसीपी नोएडा (जोन प्रथम) रणविजय सिंह के मुताबिक, ललित गुप्ता ने थाना सेक्टर-58 में रविवार की रात को रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि 2 सितंबर को उन्होंने एक वेबसाइट के माध्यम से स्पा के लिए ऑनलाइन बुकिंग की थी और आरोपियों ने उनसे ठगी और लूटपाट की। घटना की रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच कर रही थाना सेक्टर-58 पुलिस ने संजय उर्फ शान तथा अर्जुन नामक दो लोगों को सोमवार को गिरफ्तार किया है।

एडिशनल डीसीपी ने बताया की गिरफ्तार आरोपियों के फोन के माध्यम से पुलिस को पता चला है कि ये लोग ऑनलाइन स्पा के नाम पर कॉलगर्ल रैकेट चलाते थे तथा लड़की को अकेले लेने आए लोगों के साथ मारपीट कर लूटपाट भी करते थे। पूछताछ में इन्होंने बताया कि ये लोग सोनू पंजाबन के लिए एस्कॉर्ट सर्विसेज का धंधा कर रहे हैं और इस धंधे की आड़ में लोगों के साथ ठगी और लूट की वारदात को अंजाम दे रहे हैं।

रणविजय सिंह के मुताबिक इन लोगों ने अपनी गैंग में सोनू से जुड़ी लड़कियों को भी शामिल कर रखा था। गैंग से जुड़े लोग पहले अलग-अलग वेब पोर्टल पर एस्कोर्ट सर्विस के नाम से ऐड देते थे, जिसमे कुछ नामी वेब पोर्टल भी शामिल हैं। जब कोई कस्टमर इन्हें फ़ोन करता था, तब ये उसे नोएडा के सुनसान इलाके में बुलाते थे और उस शख्स को लड़की दिखाकर एडवांस लेते थे। जब डील पूरी तरह से हो जाती तो लड़की इसी दौरान झगड़ा कर के वहां से निकल जाती थी और ये भी फरार हो जाते थे। पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया और गिरोह के अन्य सदस्यो की तलाश कर रही है।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned