साल भर से फरार आरोपी अलमारी में छिपा मिला, पुलिस पर दर्ज कराया था अपहरण का केस

साल भर से फरार आरोपी अलमारी में छिपा मिला, पुलिस पर दर्ज कराया था अपहरण का केस

Rahul Chauhan | Publish: Sep, 10 2018 03:27:40 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

एक साल पहले पुलिस ने तस्करी में पकड़ा था, चौकी से फरार हो गया था गुलाब। पत्नी ने वीडियो बना दर्ज कराया था अपहरण का मुकदमा।

गाजियाबाद। लोनी पुलिस ने पिछले साल एक युवक को मादक पदार्थों की तस्करी के आरोप में हिरासत में लिया था, लेकिन आरोपी पुलिस चौकी से फरार हो गया था। युवक को चौकी ले जाते हुए उसकी पत्नी ने वीडियो बना लिया था और इसी वीडियो के आधार पर उसने पति के अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था। इस मामले में चौकी इंचार्ज को निलंबित कर दिया गया था। पुलिस को शनिवार को वह युवक घर में अलमारी में छुपा मिला। पुलिस क्षेत्राधिकारी ग्रामीण अरविंद कुमार मौर्या ने बताया कि लोनी की डीएलएफ शंकर विहार कॉलोनी में रहने वाले गुलाब सिंह को डीएलएफ चौकी प्रभारी ने 13 जुलाई 2017 को नशीले पदार्थों की तस्करी के अपराध में पकड़ा था।

यह भी पढ़ें-SC-ST एक्ट पर पूछा सवाल तो प्रेस-कांफ्रेंस छोड़कर चले गए योगी के ये मंत्री

गुलाब की पत्नी अंजू ने लोनी बॉर्डर थाने में चौकी इंचार्ज अजय कुमार के खिलाफ पति के अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था। अंजू ने पति को पुलिस द्वारा ले जाते हुए वीडियो भी बनाया था। इसी वीडियो के आधार पर डीएलएफ चौकी प्रभारी अजय कुमार को निलंबित कर दिया गया था। उसके बाद से पुलिस टीमें लगातार गुलाब सिंह की तलाश में जुटी हुई थीं। पुलिस को शनिवार को सूचना मिली कि गुलाब अपने घर आने वाला है। पुलिस ने गुलाब के मकान की घेराबंदी कर मकान की तलाशी ली तो वह घर के अंदर बनी अलमारी में छुपा हुआ मिला। पुलिस ने अपहरण की साजिश रचने और झूठा मुकदमा दर्ज कराने के आरोप में रविवार को आरोपी गुलाब सिंह और उसके पुत्र रोहित को गिरफ्तार कर लिया, पत्नी फरार है।

यह भी पढ़ें-शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी के खिलाफ मुस्लिमों के दो धड़े हुए एक और कर दिया ये बड़ा ऐलान

पुलिस से बचने के लिए बनाई योजना
पुलिस के अनुसार गुलाब सिंह दिल्ली से नशीले पदार्थों की तस्करी करता है। दिल्ली पुलिस और गाजियाबाद पुलिस से बचने के लिए उसने अपने ही अपहरण की साजिश रच डाली और इसमें चौकी इंचार्ज को आरोपी बना दिया। पुलिस ने बताया कि गुलाब सिंह ने दिल्ली में कई छोटे मकान बना रखे थे। अपराध करने के बाद वह अलग-अलग स्थानों पर जाकर छिप जाता था। इस कारण वह पुलिस की पकड़ में नहीं आ रहा था।

Ad Block is Banned