scriptOnline payment rules are ready to change from January 1 | Online Payment: नए साल में बदल जाएंगे ऑनलाइन पेमेंट के नियम, RBI ने जारी किया नया आदेश | Patrika News

Online Payment: नए साल में बदल जाएंगे ऑनलाइन पेमेंट के नियम, RBI ने जारी किया नया आदेश

Online Payment: वर्तमान में ऑनलाइन पेमेंट के लिए कार्ड नंबर, कार्ड की एक्सपायरी डेट, सीवीवी और ओटीपी (कुछ मामलों में पिन भी) के सही होने पर ही भुगतान होता है।

नोएडा

Published: December 23, 2021 12:36:22 pm

Online Payment: देश में नोटबंदी के बाद से ऑनलाइन पेमेंट का चलन काफी बढ़ गया है। छोटे से छोटे पेमेंट के लिए भी आमतौर पर लोग डिजिटल पेमेंट का ही सहारा ले रहे हैं। घर का राशन, रेस्टोरेंट, होटल, मॉल से लेकर पान-सब्जी के दुकानों और कैब ड्राइवर तक ऑनलाइन पेमेंट ले रहे हैं। शायद इसी वजह से साइबर ठगी के मामले भी बढ़ रहे हैं।
online_payment.jpg
पेमेंट को सुरक्षित बनाने के लिए हो रहा है बदलाव

साइबर ठगी के बढ़ते मामले को देखते हुए भारतीय रिजर्व बैंक यानी आरबीआई ने ऑनलाइन पेमेंट के तरीकों में 1 जनवरी से बदलाव करने जा रही है। यह फैसला आरबीआई ने लोगों को बेहतर सुरक्षा और ऑनलाइन भुगतान को सुरक्षित बनाने के लिए लिया है। आरबीआई ने सभी व्यापारियों और भुगतान गेटवे को संवेदनशील ग्राहक विवरण, डेबिट और क्रेडिट कार्ड जो उनके अंत में सहेजे गए हैं, उनको हटाने के लिए कहा है।
यह भी पढ़ें

नोएडा और ग्रेटर नोएडा में अब सप्ताह में एक दिन बंद रहेंगी बाजार

एचडीएफसी बैंक ने ग्राहकों को कराया अवगत

भारतीय रिजर्व बैंक का कहना है कि मर्चेंट और पेमेंट गेटवे को अपने सर्वर पर स्टोर की गई सभी जानकारियों को डिलीट करना होगा। सभी बैंकों ने अपने ग्राहकों को होने वाले इस बदलाव के बारे में बताना शुरू कर दिया है। एचडीएफसी बैंक ने अपने ग्राहकों को मैसेज के जरिए इस संबंध में अवगत कराया है।
बता दें कि, वर्तमान में ऑनलाइन पेमेंट के लिए कार्ड नंबर, कार्ड की एक्सपायरी डेट, सीवीवी और ओटीपी (कुछ मामलों में पिन भी) के सही होने पर ही भुगतान होता है। नए नियम के अनुसार टोकनाइजेशन वास्तविक कार्ड नंबर को एक वैकल्पिक कोड के साथ बदलने को संदर्भित करता है, जिसे टोकन कहा जाता है।
यह भी पढ़ें

Vodafone Idea VIP Mobile Number: नंबर के शौकीनों के लिए खुशखबरी, ये कंपनी फ्री में दे रही है वीआईपी मोबाइल नंबर

क्या नया नियम सुरक्षित है?

भारतीय रिजर्व बैंक का कहना है कि टोकनयुक्त कार्ड ऑनलाइन पेमेंट के लिए सुरक्षित माना जाता है क्योंकि पेमेंट के दौरान वास्तविक कार्ड विवरण व्यापारी के साथ साझा नहीं किया जाता है। आगामी जनवरी महीने के बाद से जब आप किसी मर्चेंट को पहला भुगतान करते हैं, तो आपको प्रमाणीकरण के एक अतिरिक्त कारक (AFA) के साथ उसे अपनी सहमति देनी होगी। एक बार हो जाने के बाद, आप अपने कार्ड के सीवीवी और ओटीपी को दर्ज करके भुगतान को पूरा करेंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona Update in Delhi: दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेSSB कैंप में दर्दनाक हादसा, 3 जवानों की करंट लगने से मौत, 8 अन्य झुलसे3 कारण आखिर क्यों साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2-1 से सीरीज हारा भारतUttar Pradesh Assembly Election 2022 : स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई विधायक सपा में शामिल, अखिलेश बोले-बहुमत से बनाएंगे सरकारParliament Budget session: 31 जनवरी से होगा संसद के बजट सत्र का आगाज, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगानिलंबित एडीजी जीपी सिंह के मोबाइल, पेन ड्राइव और टैब को भेजा जाएगा लैब, खुल सकते हैं कई राजUP Election 2022: सपा कार्यालय में आयोजित रैली में टूटा कोविड प्रोटोकॉल, लखनऊ के गौतमपल्ली थाने में सपा नेताओं पर FIR दर्जGujarat Hindi News : दो अलग-अलग सड़क दुर्घटनाओं में दो छात्राओं समेत पांच की मौत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.