पत्रिका असरः आधी ठंड बीतने के बाद प्राइमरी स्कूलों में बच्चों को मिले स्वेटर

पत्रिका असरः आधी ठंड बीतने के बाद प्राइमरी स्कूलों में बच्चों को मिले स्वेटर

Iftekhar Ahmed | Publish: Jan, 14 2018 06:33:24 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

आधी सर्दी बीत जाने के बाद ठंड से ठिठुरते बच्चों को रविवार को बांटे गए स्वेटर

नोएडा. सरकारी प्राथमिक स्कूलों में आधी सर्दी बीत जाने के बाद ठंड से ठिठुरते बच्चों को रविवार को स्वेटर बांटे गए। ठंड में ठिठुरकर स्कूलों में पढ़ार्इ करने वाले बच्चों के चेहरे स्वेटर पाने के बाद खिल उठे। दरअसल, प्रदेश सरकार ने इसी सत्र से सरकारी प्रइमरी स्कूलों के छात्र-छात्राओं को स्वेटर देने का वादा किया था, लेकिन दिसंबर माह बीत जाने के बाद भी सरकार बच्चों को स्वेटर नहीं दे पाई थी। सरकार की लेटलतीफी की वजह से देश के भविष्य इस हाड़ कंपा देने वाली ठंड में भी बिना स्वेटर के ही स्कूल जाने को मजबूर थे। बच्चों की परेशानी को देखते हुए पत्रिका डॉट कॉम ने इस मुद्दे को अभियान बनाते हुए खबरें प्रकाशित करनी शुरू कर दी थी। पत्रिका के इस अभियान के बाद उत्तर प्रदेश सरकार बैकफुट पर आई और अपनी योजना को बदलते हुए जिलों में तैनात बीएसए को जल्द से जल्द स्थानीय स्तर पर ही स्वेटर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए थे, जिस पर अमल करते हुए गौतमबुद्ध नगर जिले में रविवार को अफसरों ने बच्चों को स्वेटर बांट दिए।

पत्रिका अभियानः स्कूलों में बच्चों को स्वेटर मिलने में हो रही देरी पर विपक्ष ने सरकार की नीयत पर उठाए सवाल


 

noida

बिसरख ब्लॉक के प्राइमरी स्कूलों में बांटे गए स्वेटर

सूचना अधिकारी राकेश चौहान ने बताया कि सरकार की ओर से स्वेटर के लिए निर्धारित की गर्इ राशी स्कूल टीचर्स को सौंपी गर्इ थी। इसी से उन्होंने बच्चों को स्वेटर बांटे हैं। स्कूलों में स्वेटर बांटने की प्रक्रिया शुरू हो गर्इ है। जल्द ही जिले के सभी प्राथमिक स्कूलों में बच्चों को स्वेटर बांट दिए जाएंगे। शनिवार और रविवार को मोरना, छलेरा, समेत बिसरख ब्लॉक के ज्यादातर प्राइमरी स्कूलों में स्वेटर बांट दिए गए हैं। बाकी बचे स्कूलों में अगले एक से दो दिनों में बच्चों को स्वेटर बांट दिए जाएंगे।

पत्रिका अभियानः आधी ठंड बीत गई सरकारी स्कूलों के बच्चों को नहीं मिले स्वेटर

noida

ये बनी स्वेटर बटने में देरी की वजह

योगी सरकार ने सत्ता संभालने के बाद यूपी के प्राइमरी स्कूलों का कायाकल्प करने के साथ ही इन स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के लिए सभी जरूरी सामान मुहैया कराने का वादा किया था। इसी वादे के तहत इस सत्र से सरकार ने बच्चों को स्वेटर भी उपलब्ध कराने का वादा किया था। इसके लिए पहले यूपी सरकार ने प्रत्येक जिले को खुद ही स्वेटर खरीदने की जिम्मेदारी दी थी। इस पर अमल करते हुए स्कूलों ने अपने प्रपोजल जब शासन को भेजे, तो उसमें दाम को लेकर काफी भिन्नताएं थी।

पत्रिका अभियान: अब सरकार ने बेसिक शिक्षा अधिकारी को दिए स्वेटर बांटने के आदेश

सरकार एक स्वेटर पर 200 रुपए से ज्यादा खर्च करने को तैयार नहीं थी। लेकिन, कई स्कूलों के प्रपोजल में यह दाम काफी ऊंचा था। इसके बाद सरकार ने खुद ई-टेंडरिंग के जरिए स्कूलों में स्वेटर मुहैया कराने की प्रक्रिया शुरू की। इसके लिए 20 दिसंबर 2017 की डेडलाइन तय की गई। लेकिन, इस पर कोई काम नहीं हो सका। बाद में सरकार ने 25 दिसंबर 2017 की दूसरी डेडलाइन तय की थी, लेकिन इस डेड लाइन के दो हफ्ते बाद सरकार से मिले स्वेटर बच्चों के बदन पर आ पाए हैं।

पत्रिका अभियानः स्कूलों में बच्चों को स्वेटर मिलने में हो रही देरी पर विपक्ष ने सरकार की नीयत पर उठाए सवाल

तेटलतीफी पर परिजनों ने जताई नाराजगी
बच्चों को भले ही अधिकारियों ने स्वाटर बांट दिए हो, लेकिन बच्चों के परिजन सरकार की इस लेटलतीफी से खुश नहीं है। उनका कहना है कि आधे से ज्यादा सर्दी का मौसम ठिठुरते हुए बच्चों ने बिताया। अब इन स्वेटरर्स का क्या फायदा।

पत्रिका अभियान: अभिभावक बोले, इस जानलेवा ठंड में बिना स्वेटर के बच्चों को नहीं भेजेंगे स्कूल

Ad Block is Banned